Jaideep Joshi


Comments about Jaideep Joshi

There is no comment submitted by members..

अमरगान

माना जीवन क्षणभंगुर है, (पर) सबमें अमरत्व का अंकुर है।

कहते हैं जिन्हें हम अमर यहाँ, है देह तो उनकी पंचभूत;
उनकी कर्म-कस्तूरी की महक से किन्तु, है हर मानस-चित्त अभिभूत।
गौरव का उनके अमरगान, करता सृष्टि का हर सुर है;

माना जीवन क्षणभंगुर है, सबमें अमरत्व का अंकुर है।

विघ्नों की चुनौती आयुपर्यन्त, आशाओं की संभावनाएं अनन्त।

[Hata Bildir]