Jaideep Joshi


Comments about Jaideep Joshi

There is no comment submitted by members..

सृजन

कोमल भावों की मृदु बदरी
जब संवेदी ह्रदय में उमड़ती है,
तब कविता कवि को गढ़ती है I

सुसंस्कृत विचार, उपयुक्त विषय
पर तन्मयता की चांदनी जब बरसती है,
तब कविता कवि को गढ़ती है I

परिशुद्ध शब्द, उत्कृष्ट विन्यास

[Hata Bildir]