Madhuraj Kumar

Rookie - 28 Points (13 March 1997 / Bagaha, Bihar)

Best Poem of Madhuraj Kumar

ज़िन्दगी तू एक कविता है...

जिन्दगी तू एक कविता है
तुझसे मेरा वादा है
लिख रहा हूँ तुम्हें और लिखता रहूंगा तब तक
कि जब तक तू है
तेरी लय में मेरी खुशियाँ थिरकती हैं
तेरे दर्द से मेरी साँसें चलती हैं
तेरी दो पँक्तियो के बीच का फासला
यूँ ही तय कर लूँगा मैं
तेरे एक शब्द में अपना
सारा जीवन भर दूँगा मैं
जब तक रूह को नींद न आ जाए,
तुझसे मेरा वादा है
करता रहूंगा प्यार तुझे
आखिरी साँस तक
तब तक
कि
जब तक तू है
जिन्दगी तू एक कविता ह

Read the full of ज़िन्दगी तू एक कविता है...
[Hata Bildir]