Members Who Read Most Number Of Poems

Live Scores

Click here to see the rest of the list

[mialp singh bharmouri]

PoemHunter.com Updates

Sanyukat Vishal Bharat

कैसा वो दौर था
कैसी थी हवाएँ
जब अपने प्यारे भारत को
लग रहीं थी बद्दुआएँ

जब घ्रीणा की दुर्गंध
हर ओर से थी आती
जब बन गया था वैरी
अपना धर्म- समप्रदाय और जाित

[Hata Bildir]