Upendra Singh

(03-06-1972 / Azamgarh)

Aadmee


एक ग़ज़ल - आदमी
हैवानियत की हद से अब गुजर गया है आदमी|
कौन कहता है कि अब सुधर गया है आदमी|

अपने ही करतबों से कर दी तबाह दुनियां|
अपनी औकात पर उतर गया है आदमी|

छल-कपट व स्वार्थ की कर रहा जो साधना|
भेड़ियों को मात अब तो कर गया है आदमी|

सुन लो हकीकत ये जो कर रहा हूँ मैं बयां|
भीतर ही भीतर अब मर गया है आदमी |

आस्तीन का सांप देखो घात ऱोज कर रहा|
पोर-पोर अब ज़हर से भर गया है आदमी|

आदमी ने आदमी पे यों सितम किया ‘सुमन'|
टुकड़े-टुकड़े टूटकर बिखर गया है आदमी|

वादा किया था ज़मी पे ज़न्नत उतार लायेगा|
अपने ही वायदे से अब मुकर गया है आदमी|

मौत का सामान सारा ख़ुद ही जुटा डाला|
ज्वालामुखी के ढेर पर ठहर गया है आदमी|

ऐ, मौत! अपने घर तू जा, जा! जा! जा!
काम अब तो ख़ुद तेरा कर गया है आदमी|
उपेन्द्र सिंह ‘सुमन'

Submitted: Monday, July 14, 2014

Do you like this poem?
0 person liked.
0 person did not like.

Related Poems


Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (Aadmee by Upendra Singh )

Enter the verification code :

There is no comment submitted by members..

Top Poems

  1. Phenomenal Woman
    Maya Angelou
  2. The Road Not Taken
    Robert Frost
  3. If You Forget Me
    Pablo Neruda
  4. Still I Rise
    Maya Angelou
  5. Dreams
    Langston Hughes
  6. Annabel Lee
    Edgar Allan Poe
  7. If
    Rudyard Kipling
  8. I Know Why The Caged Bird Sings
    Maya Angelou
  9. Stopping by Woods on a Snowy Evening
    Robert Frost
  10. Invictus
    William Ernest Henley

PoemHunter.com Updates

Poem of the Day

poet Edgar Allan Poe

Kind solace in a dying hour!
Such, father, is not (now) my theme-
I will not madly deem that power
Of Earth may shrive me of the sin
...... Read complete »

 

Modern Poem

poet Jacques Prevert

 

Member Poem

[Hata Bildir]