hasmukh amathalal

Gold Star - 18,122 Points (17/05/1947 / Vadali, Dist: - sabarkantha, Gujarat, India)

अपने आपही रास्ता नापो apne aap hi


अपने आपही रास्ता नापो

संत और महाज्ञानी
करते है अपनी मनमानी
जनता रहती है सदा भोलीभाली
प्रभु ये कैसी माया रचा डाली?

वो कहते है इलाज सिर्फ नीता कर सकती है
ऐसे लोग हमेशा जग जीता करते है
बुद्धू बनाकर जनता को अपना उल्लू सीधा करते है
अपना जीवन तो ठीक दुसरे धर्मो को भी निशाना बना रहे है

'अरे तूने आज क्या खाया'? संतजी ने पूछा
'कुछ नहीं प्रभु सिर्फ समोसा खाया' भक्त ने अपना सर पोंछा
फिर बाँट ले समोसे अपनी शेरी के बीच
अपनी डोर अपने आप ही खींच

एसे संतो ने अपना डेरा जमा रखा है
पूंजी भी खासी और अपने को खेरखां समज रखा है
नारी विशेष टिप्पणी करते उन्हें लाज शर्म नहीं आती
अरे अपनी बेटी सरीखी कन्या को छेड़खानी करनी भाती

भक्तो करो अब पुकार 'एसे पाखंडियों की अब कोई जगह नहीं'
जहाँ भी मिल जाय अब उनकी खेर नहीं
शामत अब आही गयी है जनता भी जाग चुकी है
संत महाराज को जेल की हवा भी भा चुकी है

खूब बुध्धू बनाया और बेवकूफ
अब न रहेगी सजा मौकूफ
दिलफेंक संतो जागो
अपने आपही रास्ता नापो

कही आप बेइज्जत न हो जाय
जनता का गुस्सा पता नहीं किस कदर बढ़ जाय
सब मील कर आपके कपडे उतारे
इसके पहले सोच लो और गिन लो तारे

Submitted: Friday, September 20, 2013

Do you like this poem?
0 person liked.
0 person did not like.

Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (अपने आपही रास्ता नापो apne aap hi by hasmukh amathalal )

Enter the verification code :

Read all 9 comments »

Trending Poets

Trending Poems

  1. Still I Rise, Maya Angelou
  2. Stopping by Woods on a Snowy Evening, Robert Frost
  3. I Know Why The Caged Bird Sings, Maya Angelou
  4. The Road Not Taken, Robert Frost
  5. Dreams, Langston Hughes
  6. Annabel Lee, Edgar Allan Poe
  7. If You Forget Me, Pablo Neruda
  8. Phenomenal Woman, Maya Angelou
  9. Alone, Maya Angelou
  10. No Man Is An Island, John Donne

Poem of the Day

poet Percy Bysshe Shelley

O World! O Life! O Time!
On whose last steps I climb,
Trembling at that where I had stood before;
When will return the glory of your prime?
No more -Oh, never more!

...... Read complete »

   

New Poems

  1. SUPER LOVER~~ Michael Mcparland! ! ! !, Mr. Nobody
  2. Solid Convictions, RoseAnn V. Shawiak
  3. Fallen flower, hasmukh amathalal
  4. We all cry, hasmukh amathalal
  5. Innate Supply Of Ideas, RoseAnn V. Shawiak
  6. Mystical Desires, RoseAnn V. Shawiak
  7. Fighting, Dark Guardian
  8. I Like My Lips Against Yours, Is It Poetry
  9. Sound Of India, RoseAnn V. Shawiak
  10. Best Test, John Shea
[Hata Bildir]