Ajay Srivastava

Gold Star - 11,191 Points (28/08/1964 / new delhi)

Ajay Srivastava Poems

761. मै लडकी हुँ 12/24/2012
762. Being Human 12/25/2012
763. Sea Life 3/29/2013
764. Car 4/3/2013
765. Strength 3/22/2013
766. सपने 9/17/2013
Best Poem of Ajay Srivastava

सपने

वास्तविकता सपना नही होती है
हर वास्तविकता पहले सपना ही होती है
सपने आकाश की ऊंचाई से भी ऊपर
पल पल हर पल एक नई ऊंचाई की तरफ 11

वह सब करने की चाह
जो अब तक अधूरा सा है
ना तो किसी तूफान का भय
ना तो किसी आंधी का तनाव 11

राह की हर बाधा को सरलता से
पार कर लेने की चाहत
हो अगर मजबूत इरादे
सही दिशा मे हो तो सपने
साकार रूप मे सर झुकाए चले आते है 11

Read the full of सपने

Truth

People around globe love me
I am affordable from poorest to the richest.
But I hardly find few buyers
my availability need no permit or passport.
I am omnipresent in the universe.
Humanity favor me when listen from others.
Everyone utilize me for their favor.
But many of them hate to follow me.
I allow myself to be used against me.

[Report Error]