Geet Chaturvedi

(27 November 1977 - / Mumbai / India)

Stats

» Click to list general statistics » OR, select a date :

(पर) लोक-कथा


एक समय की बात है । एक बीज था । उसके पास एक धरती थी । दोनों प्रेम करते थे । बीज, धरती की गोद में लोट-पोट होता,हमेशा वहीं बने रहना चाहता । धरती उसे बांहों में बांधकर रखती थी और बार-बार उससे उग जाने को कहती । बीज अनमना था । धरती आवेग में थी । एक दिन बरसात हो गई और बीज अपने उगने को स्थगित नहीं कर पाया । अनमना उगा और एक दिन उगने में रम गया । अन्यमनस्कता भी रमणीय होती है । ख़ूब उगा और बहुत ऊँचा पहुँच गया। धरती उगती नहीं, फैलती है । पेड़ कितना भी फैल जाए, उसकी उगन उसकी पहचान होती है ।

दोनों बहुत दूर हो गए । कहने को तो जड़ें धरती में रहीं, लेकिन जड़ को किसने पेड़ माना है आज तक? पेड़ तो वह है जो धरती से दूर हुआ । उससे चिपका रहता, तो घास होता ।

पेड़ वापस एक बीज बनना चाहता है । धरती अपना आशीष वापस लेना चाहती है। पेड़ को दुख है कि अब वह वापस कभी वही एक बीज नहीं बन पाएगा । हाँ,हज़ारों बीजों में बदल जाएगा। धरती ठीक उसी बीज का स्पर्श कभी नहीं पा सकेगी। पेड़ उसके लिए महज़ एक परछाईं होगा ।

जीवन में हर चीज़ का विलोम नहीं होता । रात एक अँधेरा दिन नहीं होती, और दिन एक उजली रात नहीं होता । चाँद एक ठँडा सूरज नहीं, और सूरज एक गरम चाँद नहीं है । धरती और आसमान कहीं नहीं मिलते, कहीं भी नहीं ।

मैं पेड़ के बहुत क़रीब जाता हूँ और उससे कहता हूँ, सुनो, तुम अब भी एक बीज हो । वही वाला बीज । क़द के मद में मत आना। तुम अभी भी उगे नहीं हो तुम सिर्फ़ धरती की कल्पना हो

सारे पेड़ कल्पना में उगते हैं । स्मृति में वे हमेशा बीज होते हैं
......................
......................
read more >>

Hits & posts of the poem: (पर) लोक-कथा

Click the captions to change the order.

# Date Hits Posts
1 05/15/2019 Wednesday 1
100%
0
0%
2 02/06/2019 Wednesday 1
100%
0
0%
3 02/05/2019 Tuesday 1
100%
0
0%
4 12/15/2018 Saturday 1
100%
0
0%
5 10/08/2018 Monday 1
100%
0
0%
Total 5 0
Average 1.0 0.0
Descriptions:
  • Hits: Number of visitors who read the poem on the given date.
  • Posts: Number of visitors who posted the poem to a friend (via e-mail) on the given date.
Attention:
  • Dates that have "0" hits may not be shown on the list.
  • Dates, poems and poets that have "0" hits may not be shown on the list. Statistics are generated daily.
[Report Error]