NADIR HASNAIN


मैं सिगरेट हूँ

पास में आओना भाई मैं तो तेरा मेट हूँ
कैंसर व टी.बी के लाने का बेहतर गेट हूँ
चाहने वाले हमारे हर जगह मिलजाएंगे
मैं कोई दूजा नहीं सिगरेट हूँ सिगरेट हूँ

मीठी छुरी से किसी क़ीमत में हूँ मैं कम नहीं
जल के होता राख हूँ मैं फिर भी कोई ग़म नहीं
धिरे धीरे हर किसी को मैं बना दूंगा मरीज़
जानते मुझको नहीं सिगरेट हूँ सिगरेट हूँ

[Report Error]