Quotations From AHATISHAM ALAM


» More about Ahatisham Alam on Poemhunter

 

  • True love grows in motherhood.
    AHATISHAM ALAM
  • Love is nothing except lose and lose.
    Ahatisham Alam
  • One moment of being alone opens a thousand doors sothat new people may come and accompany you.
    Ahatisham Alam
  • Patthar ko chahne wala utna hurt nahi hota jitna kisi samajhdaar ko chahne wala hota hai.
    Ahatisham Alam
  • A selfish person is demoralised by criticism while a sarcrifiser inspired
    Ahatisham Alam
  • बहुत आसान है दूसरों के दर्द को समझना
    बस उन हालात से खुद को दो चार कर के देखना
    एहतिशाम आलम
  • Angerr, hatefulness and jealousy are the recognition of the mission to win the crown of darkness.
    Ahatisham Alam 20.12.2000 (03.40AM)
  • तमन्नाओं को दिल में ना कभी बसाना अपने
    ज़ख्में दिल की वजह हैं ये ही, चोट दिल पे न कभी खाना अपने।
    एहतिशाम आलम 20.12.2000 (03: 00AM)
  • फ़साने वाले से बचाने वाला ज़्यादा बड़ा होता है।
    एहतिशाम आलम
  • समझदार लोगों ने हमेशा धर्म को आर्थिक लाभ तथा सत्ता प्राप्ति का माध्यम माना है जबकि मूर्ख लोगों ने इसे आस्था समझकर खुद का शोषण करवाया है।
    एहतिशाम आलम
[Report Error]