Rapunzel Poe


याद

युँही बैठे बैठे
न जाने क्यूँ
आंखोमें पलकोंतले
बारिशें हो गयी शुरू

आज का मौसम है सुहाना एक सफर
तेरी याद छू गयी दिलको बनके एक लहर
यादोंके बादल छा गए दिलमें, छा गयी काली घटा
रिमझिम बरखा बरसे अखियोंसे, न जानू मैं न जाने तू

[Report Error]