Ritesh Mishra

Rookie - 25 Points [Ritesh Mishra] (05/02/1983 / Sitamarhi (Bihar))

Ritesh Mishra Quotes

  • ''काश दिल दिल का शायरी करता''
    काश दिल दिल का शायरी करता मगर धरती नाचती और आकाश नचाता महज एक रात की बात है, कबूतर एक प्रेमी से कहा क्या हुआ तेरा प्रेमखत जिसे तेरी प्रेमिका ने मेरी चोंच मे डाल कर भेजा था |
    5 person liked.
    1 person did not like.
  • ''दिल तो दिल की धरकन सुनता, कोई प्यार नहीं पर इकरार करता

    ये समा हमारे दिल की दर पर, रोज साम जला करता

    दिल खुशियों की बाग़ सदा, पतझर मे प्यार कोपल लाता

    उन सोनपरित मोहित मन को, दिल की कश्ती कोई मिल पाता

    ह़र बार समुन्दर की लहरों पर, चाँद छाँव की ले आता

    काली घनघोर घटा पर भी, ओ इन्द्रधनुष बना जाता

    मन मे बहती जब तेज पवन, ओ प्यार की डाल पकर लेता

    ओ सांस मोहब्बत का लेता, जिस पर जीवन बसा होता

    कोई गीत नहीं पर गीत सदा, ओ प्यार की बस गाता रहता''
    दिल की आवाज
  • ''क्या कहूँ ज़माने ने दिया कम नहीं |
    पर खुदा की खुदाई ने निभाने न दिया |

    मुहब्बत के गम ख़ुशी के पैमाने में समा न सका, की प्यार के बादल बरस गए |

    जिंदगी है पर जिंदगी में ज़माने की जद्दोजहद भी कम नहीं, है हिसाब नहीं बेहिसाब है जिंदगी के रस्म मगर अपनी प्यार को डिगा न सका |

    हर जुर्म को सहने की आदत न डाल प्यारे मन में तन में |
    आग उगलती सूरज में मन को न जलने दे मन में |

    हर रोज सुबह सूरज उगता पर साँझ होत ही बुत जाता |
    ऐसी ही रीत बनी जग का हर जन का साम सुबह होता |

    हर माँ की गोद भरा होता दुल्हन की मांग सजा होता |
    हर बाग की फूल खिला होता दुनिया में शूल नहीं होता |


    रितेश मिश्रा
    सीतामढ़ी (बिहार)
    पिन कोड: - 843323
    8159082303''
    क्या कहूँ ज़माने ने दिया कम नहीं | पर खुदा की खुदाई ने निभाने न दिया | मुहब्बत के गम ख़ुशी के पैमाने में समा न सका, की प्यार के बादल बरस गए | जिंदगी है पर जिंदगी में ज़माने की जद्दोजहद भी कम नहीं, है हिसाब नहीं बेहिसाब है जिंदगी के रस्म मगर अपनी प्यार को डिगा न सका | हर जुर्म को सहने की आदत न डाल प्यारे मन में तन में | आग उगलती सूरज में मन को न जलने दे मन में | हर रोज सुबह सूरज उगता पर साँझ होत ही बुत जाता | ऐसी ही रीत बनी जग का हर जन का साम सुबह होता | हर माँ की गोद भरा होता दुल्हन की मांग सजा होता | हर बाग की फूल खिला होता दुनिया में शूल नहीं होता | रितेश मिश्रा सीतामढ़ी (बिहार) पिन कोड: - 843323 8159082303

Read more quotations »
[Report Error]