Sahil Haar gya

Rookie - 115 Points [Sahil haar gya] (23 Jul 1997)

Maa

मां तु चली आ, देख तेरा बेटा रोने लगा है अपने गम दिखाने लगा है उसे चुप कराने तु चली आ... मां तु चली आ ये कितना पत्थर दिल था, आज वो टूटने लगा है, उसे एक सहारा देने सही तु चली आ, मां तु चली आ आज ज़िंदगी ने खता दी है, उसे अपनो ने सजा दी है, उसे गले लगाने सही अब तो चली आ, मां तु चली आ हा तु चली आ

[Report Error]