Shiv Parashar

Rookie - 0 Points (21-May-1988 / Rohtak (Haryana))

सीने पर ग़म रख लेता हूँ

सीने पर ग़म रख लेता हूँ,
आँखें भी नम रख लेता हूँ।

मेरा भी मन रह जाता है,
जब तेरा मन रख लेता हूँ।

इन आँखों में सारे मंज़र,
सारे मौसम रख लेता हूँ।

जब बाँटू अपनों में हिस्सा,
मैं अपना कम रख लेता हूँ।

अच्छा और बुरा ना आँकूं,
जो दे हमदम रख लेता हूँ।

[Report Error]