Vikash Ranjan Sinha

Rookie - 196 Points (01 Apr / Jamui)

Best Poem of Vikash Ranjan Sinha

आवाज़ दिल की...

दिल ने दिल से दी आवाज़ तुझे,
हुई एक अजीब सी एहसास मुझे |
जानें ये कैसी खुमारी छाई है,
हर ओर तू ही तू नज़र आई है |
दिल ने दिल से दी आवाज़ तुझे,
हुई एक अजीब सी एहसास मुझे |
देख कर मुझे जब से तूने मुस्कुराई है,
चेहरे पे मेरे खुशियाँ ही खुशियाँ छाई |
तेरे मोहब्बत के रंग अब तो मेरे पे रंग लाई है,
जब से मेरे जीवन में तू समाई है |
दिल ने दिल से दी आवाज़ तुझे,
हुई एक अजीब सी एहसास मुझे...! ! !

Read the full of आवाज़ दिल की...
[Report Error]