Treasure Island

Shashikant Nishant Sharma

(03 September,1988 / Sonepur, Saran, Bihar, India)

रोटी का टुकड़ा


हर रोज की तरह
सुबह-सुबह
मै छत पर टहल रहा था
तभी मैने देखा
थोड़ी ही दूर
एक मकान में एक महिला
झाड़ू पोछा लगा रही थी
खुले दरवाजे और खिड़कियों से
सब साफ-साफ दिख रहा था
ज्यादा उम्र की नही थी
पर हालात ने उसे
अधेड़ उम्र की दिखने पर कर दिया था मजबूर
काम पूरा होते ही
आई उसकी मालकिन
और पारिच्रमिक के रूप मे
थमा दी हाथ में
रोटी के दो चार टुकड़ें
उस टुकड़े को वह
ढक ली अपनी आँचल में
और चल दी अपने घर
कुछ ही दूर था उसका घर
मैने देखा
उसके दो छोटे-छोटे बच्चें
देखते ही माँ को उछले
मै देखता रह गया
उस घर का दुखड़ा
उस माँ का मुखड़ा
और वह रोटी का टुकड़ा
शशिकांत निशांत शर्मा 'साहिल'

Submitted: Saturday, March 30, 2013

Do you like this poem?
0 person liked.
0 person did not like.

What do you think this poem is about?



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (रोटी का टुकड़ा by Shashikant Nishant Sharma )

Enter the verification code :

There is no comment submitted by members..

PoemHunter.com Updates

Poem of the Day

poet Paul Laurence Dunbar

The mist has left the greening plain,
The dew-drops shine like fairy rain,
The coquette rose awakes again
Her lovely self adorning.

The Wind is hiding in the trees,
...... Read complete »

   

Trending Poems

  1. Still I Rise, Maya Angelou
  2. The Road Not Taken, Robert Frost
  3. If, Rudyard Kipling
  4. Morning, Paul Laurence Dunbar
  5. Fire and Ice, Robert Frost
  6. I Know Why The Caged Bird Sings, Maya Angelou
  7. Daffodils, William Wordsworth
  8. Dreams, Langston Hughes
  9. Being With You, Heather Burns
  10. Stopping by Woods on a Snowy Evening, Robert Frost

Trending Poets

[Hata Bildir]