Harivansh Rai Bachchan

(27 November 1907 – 18 January 2003 / Allahabad, Uttar Pradesh / British India)

है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है


कल्पना के हाथ से कमनीय जो मंदिर बना था
भावना के हाथ ने जिसमें वितानों को तना था

स्वप्न ने अपने करों से था जिसे रुचि से सँवारा
स्वर्ग के दुष्प्राप्य रंगों से, रसों से जो सना था
ढह गया वह तो जुटाकर ईंट, पत्थर, कंकड़ों को
एक अपनी शांति की कुटिया बनाना कब मना है
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है

बादलों के अश्रु से धोया गया नभ-नील नीलम
का बनाया था गया मधुपात्र मनमोहक, मनोरम
प्रथम ऊषा की किरण की लालिमा-सी लाल मदिरा
थी उसी में चमचमाती नव घनों में चंचला सम
वह अगर टूटा मिलाकर हाथ की दोनों हथेली
एक निर्मल स्रोत से तृष्णा बुझाना कब मना है
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है

क्या घड़ी थी, एक भी चिंता नहीं थी पास आई
कालिमा तो दूर, छाया भी पलक पर थी न छाई
आँख से मस्ती झपकती, बात से मस्ती टपकती
थी हँसी ऐसी जिसे सुन बादलों ने शर्म खाई
वह गई तो ले गई उल्लास के आधार, माना
पर अथिरता पर समय की मुसकराना कब मना है
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है

हाय, वे उन्माद के झोंके कि जिनमें राग जागा
वैभवों से फेर आँखें गान का वरदान माँगा
एक अंतर से ध्वनित हों दूसरे में जो निरंतर
भर दिया अंबर-अवनि को मत्तता के गीत गा-गा
अंत उनका हो गया तो मन बहलने के लिए ही
ले अधूरी पंक्ति कोई गुनगुनाना कब मना है
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है

हाय, वे साथी कि चुंबक लौह-से जो पास आए
पास क्या आए, हृदय के बीच ही गोया समाए
दिन कटे ऐसे कि कोई तार वीणा के मिलाकर
एक मीठा और प्यारा ज़िन्दगी का गीत गाए
वे गए तो सोचकर यह लौटने वाले नहीं वे
खोज मन का मीत कोई लौ लगाना कब मना है
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है

क्या हवाएँ थीं कि उजड़ा प्यार का वह आशियाना
कुछ न आया काम तेरा शोर करना, गुल मचाना
नाश की उन शक्तियों के साथ चलता ज़ोर किसका
किंतु ऐ निर्माण के प्रतिनिधि, तुझे होगा बताना
जो बसे हैं वे उजड़ते हैं प्रकृति के जड़ नियम से
पर किसी उजड़े हुए को फिर बसाना कब मना है
है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है

Submitted: Friday, April 06, 2012
Edited: Friday, April 06, 2012

Do you like this poem?
20 person liked.
4 person did not like.

Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (है अँधेरी रात पर दीवा जलाना कब मना है by Harivansh Rai Bachchan )

Enter the verification code :

There is no comment submitted by members..

Trending Poets

Trending Poems

  1. Do Not Go Gentle Into That Good Night, Dylan Thomas
  2. The Road Not Taken, Robert Frost
  3. Fire and Ice, Robert Frost
  4. Daffodils, William Wordsworth
  5. Still I Rise, Maya Angelou
  6. I Know Why The Caged Bird Sings, Maya Angelou
  7. If You Forget Me, Pablo Neruda
  8. If, Rudyard Kipling
  9. To an Athlete Dying Young, Alfred Edward Housman
  10. Mending Wall, Robert Frost

Poem of the Day

poet Alfred Edward Housman

The time you won your town the race
We chaired you through the market-place;
Man and boy stood cheering by,
And home we brought you shoulder-high.

...... Read complete »

   

Member Poem

New Poems

  1. Counting Days, maria sudibyo
  2. Rain in My Heart, maria sudibyo
  3. Atonement, maria sudibyo
  4. Paper Cut, maria sudibyo
  5. Unfinished Poem, maria sudibyo
  6. I Want A Foreigner Girl For Me, Bijay Kant Dubey
  7. Blackberries / Briars, Frank Avon
  8. Daru Pikar Naya Varsha Shuru Karne Ka Er.., Bijay Kant Dubey
  9. It Is Time, Bijay Kant Dubey
  10. Mother's Love, Father's Love, Sister's L.., Bijay Kant Dubey
[Hata Bildir]