Shashikant Nishant Sharma

(03 September,1988 / Sonepur, Saran, Bihar, India)

Poems of Shashikant Nishant Sharma

441. स्वाभिमान पे लगा घाव 10/12/2012
442. साक्षरता दिवस और पंडित जवाहर नेहरु 10/12/2012
443. साक्षरता दिवस और मलिन बस्ती के बच्चें 10/12/2012
444. साथ में दरिया साहिल होगा 3/7/2013
445. साथ में दरिया साहिल होगा 2/20/2013
446. साहिल के बाँहों में 2/20/2013
447. साहिल के बाँहों में 3/7/2013
448. है मेरी बस एक चाह 3/7/2013
449. है मेरी बस एक चाह 2/20/2013
450. है मशाल ज्योति का प्रतिक 6/29/2012
451. है ये गरीबी के दास 7/9/2012
452. हैं साहिल की फरयाद 3/7/2013
453. हम तो इंतजार करते रहें 3/21/2013
454. हम थे बन्दर हम है बन्दर 2/28/2013
455. हम थे बन्दर हम है बन्दर 12/24/2012
456. हम थे बन्दर हम है बन्दर 1/29/2013
457. हरे पत्तें पीले पत्ते 3/21/2013
458. हर शाम जो मेरे ख्वाबों में आती है सताती है 4/16/2012
459. हस लो आज 3/30/2013
460. हंसो हंसो खूब हंसों 3/30/2013

Dream Dream Dream

Dream dream dream
And dream untill dream come true
Life is nothing but dreams
Some accomplished, some unfinished
Some dreams are trifle, some cherished

You are nothing but a result of dreams
Dreams, dreams and nothing but dreams
A dream of someone

[Hata Bildir]