Treasure Island

Kazim Jarwali

(15 June 1955 / Jarwal / India)

लफ्ज़े मोअत्बर


कोई भी लफ्ज़ मेरा जैसे मोअत्बर ही नही ,
मेरी सदा का किसी पर कोई असर ही नही ।

ये मंजिले भी उसी को सदाए देती हैं ,
वो शख्स जिसको कोई खुवाहिशे सफ़र ही नही ।

तेरे वुजूद से इनकार तेरे होते हुए ,
पता है सबका तुझे अपनी कुछ खबर ही नही ।

मेरे भी नक्श-ए-क़दम हैं ख़लाओं में तहरीर,
ये अर्श सिर्फ सितारों की रहगुज़र ही नही ।

ये संगो खिस्त हैं बे चश्म नाज़री मेरे,
मेरे गवाह फ़कत साहिबे नज़र ही नही ।

गुज़र रहाँ हूँ मे कितनी अजीब राहों से,
सिवाए मेरे मेरा कोई हमसफ़र ही नही ।

ठहर गयी मेरी आँखों मे आके ऐ "काज़िम",
एक ऐसी रात के जिसकी कोई सहर ही नही ।।

Submitted: Tuesday, April 10, 2012
Edited: Tuesday, April 10, 2012

Do you like this poem?
0 person liked.
0 person did not like.

What do you think this poem is about?



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

improve

Comments about this poem (लफ्ज़े मोअत्बर by Kazim Jarwali )

Enter the verification code :

There is no comment submitted by members..
[Hata Bildir]