Members Who Read Most Number Of Poems

Live Scores

Click here to see the rest of the list

What do you think this poem is about?

For Example: love, art, fashion, friendship and etc.

कैफ़ियत

तेल की दरकार है न जुस्त्जु दियासलाई की,
शमा को उम्र मिलती है परवाने की आह से।

रंग से रौनक है न खुश्बू से है कशिश,
हुस्न है मयस्सर गुल को भंवरे की चाह से।

मौजों से शख्सियत है न तूफां से है पहचान,
समंदर की हैसियत है संजीदगी की थाह से।

अक्ल से रास्ता है न वास्ता है इल्म से,
मिलती है दिल को मंजिल दिल की राह से।

दौलत की फ़िक्र है न किसी रुतबे की है परवाह,
शायर की पूछो कैफ़ियत कद्रदानों की वाह से।

Submitted: Wednesday, June 26, 2013
Edited: Wednesday, June 26, 2013


Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (आज आँख बहुत नम है by Jaideep Joshi )

Enter the verification code :

There is no comment submitted by members..
[Hata Bildir]