hasmukh amathalal

Gold Star - 68,169 Points (17/05/1947 / Vadali, Dist: - sabarkantha, Gujarat, India)

अपने हाथों से ही बुझाते हो...Apne hathose - Poem by hasmukh amathalal

अपने हाथों से ही बुझाते हो

में अभी मर भी सकता नहीं
क्योंकि लिखना अभी बाकी है
कितने सारे मनसूबे है संजोये
इसलिए रहते है हम खोये खोये

लेखनी का द्वार खुलते ही
उँगलियों के साथ में मचलते ही
सपने अपने आप, साकार नजर आते है
गुलाब उगे हुए बंजर जमी पर दिखाई देते है

ये है करिश्मा सारा ही देंन है
वरना हम क्या है दिल के ही दीन है
क्या लिख पाते या नहीं लिख पाते?
दिल के अरमान दिल में ही सताते

न मरुंगा में आज और कल भी मरुंगा
पुरा कवि बनकर दिलों पे राज करूंगा
कोई भी कहानी अपनी जब दोहराएगा
मेरा मुस्कुराता चेहरा ही उस मे पायेगा

किसका घर उजड़ा और किसका घर बस गया?
येही सोचकर मुझे दिल से रोना आ गया
ना किसी का चमन उझड़े ना किसीका बसाया घर
मेरी सोच है बकाया दिल से उसके उपर

ठीक है यदि मेरा जीना सफल हो गया
ना हुआ तो समजो असफल ही रह गया
मेरा मकसद मेरा कारवां बिच में ही रुक गया
में आया था इसलिए पर खाली हाथ लोट गया

तुम सब में दीखती है मुझे एक आशा की किरण
पर तुम दोड़ते रहते हो जैसे गभराया हुआ हिरण
अपनी खुश्बू अपनी नाभि में लिए ही घूमते हो
फिर भी अपने ही चिराग को अपने हाथों से ही बुझाते हो


Comments about अपने हाथों से ही बुझाते हो...Apne hathose by hasmukh amathalal

  • Gold Star - 68,169 Points Mehta Hasmukh Amathalal (7/21/2013 12:29:00 AM)

    ????? ?? ????? ?? ????? ?? ?? ????
    ???? ????? ???? ??? ?? ???? ? ???
    ?? ???? ?? ??? ????? ?? ?????? ????? ??
    ???? ??? ?? ????? ??? ?? ???? ???

    ??? ?? ??? ???? ???? ??? ?? ???
    ?? ??? ?? ???? ???? ?? ?? ???
    ???? ???? ???? ?????? ??? ??? ?? ??? ???
    ??? ??? ?? ????? ?? ???? ??? ??? ???

    ??? ?? ??? ????? ?? ???? ?? ??? ?? ????
    ?? ??? ?????? ???? ?? ???? ?????? ??? ????
    ???? ?????? ???? ???? ??? ??? ?? ????? ??
    ??? ?? ???? ?? ????? ?? ???? ????? ?? ?? ?????? ?? (Report) Reply

    0 person liked.
    0 person did not like.
Read all 1 comments »



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?



Poem Submitted: Sunday, July 21, 2013

Poem Edited: Monday, July 22, 2013


[Hata Bildir]