Jaideep Joshi


क्यूँ न हो? - Poem by Jaideep Joshi

क्यूँ न हो?

हर ज़ुबां पे ज़िन्दगी का, है गीत अलहदा;
गुलज़ार करे जो हर दिल को, ऐसा तराना क्यूँ न हो?

लिख ली है हर कौम ने, अपने हिस्से की इबारत;
बने नज़ीर जो सारी खुदाई के लिए, ऐसा अफ़साना क्यूँ न हो?

बेवजह फड़फड़ाते रहे अब तलाक, अपने पंख फ़िज़ाओं में;
शम-ए-फ़रोज़ा पे खाक़, आज ये परवाना क्यूँ न हो?

अय्यारी के इस आलम में, जो रख सके दामन साफ़;
ऐसी पाक-ओ-मक़बूल शख्सियत, रश्क-ए-ज़माना क्यूँ न हो?

अपनों के जश्न में तो, सभी झूमते हैं 'बेलाग';
बेगानी शादी में अब्दुल्ला, अब दीवाना क्यूँ न हो?


Comments about क्यूँ न हो? by Jaideep Joshi

There is no comment submitted by members..



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?



Poem Submitted: Tuesday, February 4, 2014

Poem Edited: Wednesday, February 5, 2014


[Hata Bildir]