Pawan Kumar Bharti

Rookie - 54 Points (07/04/1982- / Dhampur (UP))

एक माँ की उम्मीद (Expectation of a Mother) - Poem by Pawan Kumar Bharti

देख-देख के मुझको खुश होती थी माँ!
मुझे परेशानी हो तो हमेशा रोती थी माँ! !
उसके दिल मे मेरे लिए चाहत बहुत थी!
मुझे खुश देखके उसे, राहत बहुत थी! !
उस रोज़ उसके चेहरे को देखा गौर से!
उन बातों को वो कैसे कहती और से! !
वैसे तो मैं उसकी आँखों का तारा था!
कहने को उसके बुढ़ापे का सहारा था! !
कितने सपने आँखों मे बुने थे उसने!
मेरे लिए कितने ताने सुने थे उसने! !
उसके लिए कभी वक़्त निकाल ना पाया!
उसके बुढ़ापे मे कभी काम ना आया! !
मेरी माँ तो मुझको कहती थी हीरा!
मगर मैं निकला फक़त फक्कड़ कबीरा! !


Poet's Notes about The Poem

this is a story of some emotional values and expectation of a mother for her son.

Comments about एक माँ की उम्मीद (Expectation of a Mother) by Pawan Kumar Bharti

There is no comment submitted by members..



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?



Poem Submitted: Wednesday, July 30, 2014

Poem Edited: Wednesday, July 30, 2014


[Hata Bildir]