hasmukh amathalal

Gold Star - 19,562 Points (17/05/1947 / Vadali, Dist: - sabarkantha, Gujarat, India)

जिन्दगी भी संवार देगी jindgi bhi


जिन्दगी भी संवार देगी

मैंने धीरे से आवाज लगाई
बस भीड़ में दबकर रह गयी
मेरी दौड़ सिमित थी और सिमित रह गयी
लोग आगे बढ़ गए और में देखती ही रह गयी

वो भीड़ में अकेला था
मासूम सा चेहरा था
पर गमगीन और उदास था
मेरे पीछे बना हुआ देवदास था

मैंने भी दिल दे दिया था
बस मिलने का वादा भी किया था
मुझे नहीं पता था भीड़ इस कदर बढ़ जाएगी!
मेरी महोब्बत का इस तरह मजाक उड़ाएगी

उसके चेहरे की लकीरे मुझे असमंजस में डाल रही थी
'अलग हो जाने के डर से आतंकित कर रही थी '
मैंने सोचा मेरी दौड़ कहा तक जायेगी?
ये सब दुविधाए कैसे समलेगी?

मेरा निजी जीवन निष्काम और पाक रहा है
मैंने सपने में भी किसी का दुःख नहीं चाहा है
में उसकी चाहत का मजाक बनते देख नहीं सकती?
यही मेरी घड़ी है उसका इन्तेजार में नहीं कर सकती

मैंने आव्हान किया और हाथ आगे बढ़ा दिया
'उसने भी सच्ची मोहब्बत का रंग दिखा दिया '
थामा लगन से हाथ और जामे अंजाम दे दिया
हमें गलत इल्जाम देने की फिराक से बचा लिया

कौन कहता है प्यार में ताकत नहीं होती?
कौन सोचता है किनारेको किश्ती नसीब नहीं होती?
करो दिल से पुकार नदी अपना रुख बदल देगी
प्यार तो ठीक है पर साथ में जिन्दगी भी संवार देगी

Submitted: Saturday, October 19, 2013
Edited: Tuesday, October 22, 2013

Do you like this poem?
0 person liked.
0 person did not like.

Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (जिन्दगी भी संवार देगी jindgi bhi by hasmukh amathalal )

Enter the verification code :

Read all 45 comments »

Trending Poets

Trending Poems

  1. The Saddest Poem, Pablo Neruda
  2. If, Rudyard Kipling
  3. The Road Not Taken, Robert Frost
  4. Do Not Go Gentle Into That Good Night, Dylan Thomas
  5. The Bull, Ralph Hodgson
  6. Invictus, William Ernest Henley
  7. Still I Rise, Maya Angelou
  8. Fire and Ice, Robert Frost
  9. A Smile To Remember, Charles Bukowski
  10. Love, Sarah Flower Adams

Poem of the Day

poet Sarah Flower Adams

O Love! thou makest all things even
In earth or heaven;
Finding thy way through prison-bars
Up to the stars;
Or, true to the Almighty plan,
That out of dust created man,
...... Read complete »

   

New Poems

  1. A pencil on a painting, Ntando.B Da poet
  2. Distance, Alex Rodriguez
  3. Fierceless, Alex Rodriguez
  4. A Thousand More, Smoky Hoss
  5. i think i left my hand in yours. go look., Mandolyn ...
  6. Wild cold of novemeber, Alex Rodriguez
  7. Far Off, Sentamu Aziz
  8. Mill By The River, Stratis Havarti
  9. Take A Stand, Saiom Shriver
  10. Suckling, Saiom Shriver
[Hata Bildir]