hasmukh amathalal

Gold Star - 18,264 Points (17/05/1947 / Vadali, Dist: - sabarkantha, Gujarat, India)

वक्त भी आ गया है।vakt bhi


वक्त भी आ गया है।

जब से बना हूँ में हुस्ना का सैया
दिन एक भी ना बीता, जब में ना रोया
उसने कहा था ' आंसू न लाऊंगी '
पर प्यार से जरुर सताऊँगी।

पर जब पकड़ी मैंने उसकी बैया?
डूबने लगी जैसे मेरी नैया
डांवाडोल होने लगा जब उसने पढ़ा ननैया
छुडाली बाहें ओर गुस्सा दिखा दीया

मेरी जमीं आहिस्ता खिसक गयी
बारवां आसमान क्या होता है वो भी दिखा दिया
बस देखना अब रह गया क्या होगा अंजाम?
और कहाँ जाके रुकेगा हमारा मकाम।

उनकी हसरतें देखकर दिल रेह गया हैरान
क्योंकी हम भी जहाँ खड़े थे वो जगह थी वीरान
फूल खिलना तो दूर पौधा भी नजर नहीं आता है
बस बार बार उसका हसीं चेहरा ही नजर आता है।

बस हरदम कहा करते थे 'हम साथ नहीं छोड़ेंगे'
मरते दम तक जब तक सांस है 'एक साथ ही रहेंगे'
बस येही शब्द हरदम कानमे गूंजते रहते है
रातो में भी हम तारे गिनते रहते है।

उनकी हसरतें देखकर दिल रेह गया हैरान
क्योंकी हम भी जहाँ खड़े थे वो जगह थी वीरान
फूल खिलना तो दूर पौधा भी नजर नहीं आता है
बस बार बार उसका हसीं चेहरा ही नजर आता है।

बस हरदम कहा करते थे 'हम साथ नहीं छोड़ेंगे'
मरते दम तक जब तक सांस है 'एक साथ ही रहेंगे'
बस येही शब्द हरदम कानमे गूंजते रहते है
रातो में भी हम तारे गिनते रहते है

आज भी वो हमें देखते रहते है
आए दिन मेजबानी का पूरा ख्याल रखते है
हमने क़सम खा रखी है अपने उसूलों की
वादों की ओर हर कदम को सुनने की

बस बार बार उसका हसीं चेहरा ही नजर आता है

बस हरदम कहा करते थे 'हम साथ नहीं छोड़ेंगे'
मरते दम तक जब तक सांस है 'एक साथ ही रहेंगे'
बस येही शब्द हरदम कानमे गूंजते रहते है
रातो में भी हम तारे गिनते रहते है।

आज भी वो हमें देखते रहते है
आए दिन मेजबानी का पूरा ख्याल रखते है
हमने क़सम खा रखी है अपने उसूलों की
वादों की ओर हर कदम को सुनने की।

उनका दिल पसीज रहा है
कान में धीरे से 'प्लीज, प्लीज ' कह रहा है
हमें भी आजकल उनको मनाने का कसब आ गया है
हारजीत का फैसला करने का वक्त भी आ गया है।

Submitted: Monday, March 31, 2014
Edited: Tuesday, April 01, 2014

Topic of this poem: poem


Do you like this poem?
0 person liked.
0 person did not like.

Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (वक्त भी आ गया है।vakt bhi by hasmukh amathalal )

Enter the verification code :

Read all 37 comments »

Trending Poets

Trending Poems

  1. Alone, Edgar Allan Poe
  2. The Raven, Edgar Allan Poe
  3. रंजानाय फैगौ, Ronjoy Brahma
  4. The Road Not Taken, Robert Frost
  5. Still I Rise, Maya Angelou
  6. Fire and Ice, Robert Frost
  7. If, Rudyard Kipling
  8. Annabel Lee, Edgar Allan Poe
  9. If You Forget Me, Pablo Neruda
  10. Stopping by Woods on a Snowy Evening, Robert Frost

Poem of the Day

poet Richard Lovelace

Tell me not (Sweet) I am unkind,
That from the nunnery
Of thy chaste breast and quiet mind
To war and arms I fly.

True, a new mistress now I chase,
...... Read complete »

   

New Poems

  1. The Vampire, Gilbert Ortega
  2. The Loss That Has Cost The People, Lawrence S. Pertillar
  3. Christmas Glow, Cigeng Zhang
  4. The Watchers, Aaryan Deshpande
  5. Not necessarily, hasmukh amathalal
  6. I embrace my pen, gajanan mishra
  7. Loveless Love, Paul Hartal
  8. But vicinty, hasmukh amathalal
  9. Past Writing, RoseAnn V. Shawiak
  10. Still Small Voice, Leong Ming Loong
[Hata Bildir]