Treasure Island

hasmukh amathalal

(17/05/1947 / Vadali, Dist: - sabarkantha, Gujarat, India)

वक्त भी आ गया है।vakt bhi


वक्त भी आ गया है।

जब से बना हूँ में हुस्ना का सैया
दिन एक भी ना बीता, जब में ना रोया
उसने कहा था ' आंसू न लाऊंगी '
पर प्यार से जरुर सताऊँगी।

पर जब पकड़ी मैंने उसकी बैया?
डूबने लगी जैसे मेरी नैया
डांवाडोल होने लगा जब उसने पढ़ा ननैया
छुडाली बाहें ओर गुस्सा दिखा दीया

मेरी जमीं आहिस्ता खिसक गयी
बारवां आसमान क्या होता है वो भी दिखा दिया
बस देखना अब रह गया क्या होगा अंजाम?
और कहाँ जाके रुकेगा हमारा मकाम।

उनकी हसरतें देखकर दिल रेह गया हैरान
क्योंकी हम भी जहाँ खड़े थे वो जगह थी वीरान
फूल खिलना तो दूर पौधा भी नजर नहीं आता है
बस बार बार उसका हसीं चेहरा ही नजर आता है।

बस हरदम कहा करते थे 'हम साथ नहीं छोड़ेंगे'
मरते दम तक जब तक सांस है 'एक साथ ही रहेंगे'
बस येही शब्द हरदम कानमे गूंजते रहते है
रातो में भी हम तारे गिनते रहते है।

उनकी हसरतें देखकर दिल रेह गया हैरान
क्योंकी हम भी जहाँ खड़े थे वो जगह थी वीरान
फूल खिलना तो दूर पौधा भी नजर नहीं आता है
बस बार बार उसका हसीं चेहरा ही नजर आता है।

बस हरदम कहा करते थे 'हम साथ नहीं छोड़ेंगे'
मरते दम तक जब तक सांस है 'एक साथ ही रहेंगे'
बस येही शब्द हरदम कानमे गूंजते रहते है
रातो में भी हम तारे गिनते रहते है

आज भी वो हमें देखते रहते है
आए दिन मेजबानी का पूरा ख्याल रखते है
हमने क़सम खा रखी है अपने उसूलों की
वादों की ओर हर कदम को सुनने की

बस बार बार उसका हसीं चेहरा ही नजर आता है

बस हरदम कहा करते थे 'हम साथ नहीं छोड़ेंगे'
मरते दम तक जब तक सांस है 'एक साथ ही रहेंगे'
बस येही शब्द हरदम कानमे गूंजते रहते है
रातो में भी हम तारे गिनते रहते है।

आज भी वो हमें देखते रहते है
आए दिन मेजबानी का पूरा ख्याल रखते है
हमने क़सम खा रखी है अपने उसूलों की
वादों की ओर हर कदम को सुनने की।

उनका दिल पसीज रहा है
कान में धीरे से 'प्लीज, प्लीज ' कह रहा है
हमें भी आजकल उनको मनाने का कसब आ गया है
हारजीत का फैसला करने का वक्त भी आ गया है।

Submitted: Monday, March 31, 2014
Edited: Tuesday, April 01, 2014

Do you like this poem?
0 person liked.
0 person did not like.

What do you think this poem is about?



Topic(s): poem

Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?

Comments about this poem (वक्त भी आ गया है।vakt bhi by hasmukh amathalal )

Enter the verification code :

Read all 37 comments »

PoemHunter.com Updates

New Poems

  1. Caught In the Crossfire, David Clinch
  2. Lonnie Donegan Stood, David Clinch
  3. The Survivor, Annalee Hopkins Somerville
  4. Who Are You, Tone Lyriker
  5. Rossette, Naveed Khalid
  6. tell sadness to catch the next bus, Mandolyn ...
  7. You and I, David Clinch
  8. The Beggar, David Clinch
  9. Just Wait, Alyssa Alexander
  10. Miep - A Woman of Courage, David Clinch

Poem of the Day

poet Walt Whitman

ARM’D year! year of the struggle!
No dainty rhymes or sentimental love verses for you, terrible year!
Not you as some pale poetling, seated at a desk, lisping cadenzas
piano;
...... Read complete »

   

Trending Poems

  1. Still I Rise, Maya Angelou
  2. The Road Not Taken, Robert Frost
  3. Phenomenal Woman, Maya Angelou
  4. If You Forget Me, Pablo Neruda
  5. Identity, Cyrus Diaz
  6. Daffodils, William Wordsworth
  7. I Know Why The Caged Bird Sings, Maya Angelou
  8. 1861, Walt Whitman
  9. Alone, Maya Angelou
  10. Fire and Ice, Robert Frost

Trending Poets

[Hata Bildir]