Josh Malihabadi

(05 December 1894 – 22 February 1982 / Malihabad, United Provinces / British India)

अहल-ए-दवल में धूम थी रोज़-ए-सईद की - Poem by Josh Malihabadi

अहल-ए-दवल में धूम थी रोज़-ए-सईद की
मुफ़्लिस के दिल में थी न किरन भी उम्मीद की

इतने में और चरख़ ने मट्टी पलीद की
बच्चे ने मुस्कुरा के ख़बर दी जो ईद की

फ़र्त-ए-मिहन से नब्ज़ की रफ़्तार रुक गई
माँ-बाप की निगाह उठी और झुक गई

आँखें झुकीं कि दस्त-ए-तिही पर नज़र गई
बच्चे के वल-वलों की दिलों तक ख़बर गई

ज़ुल्फ़-ए-सबात ग़म की हवा से बिखर गई
बर्छी सी एक दिल से जिगर तक उतर गई

दोनों हुजूम-ए-ग़म से हम-आग़ोश हो गये
इक दूसरे को देख के ख़ामोश हो गये


Comments about अहल-ए-दवल में धूम थी रोज़-ए-सईद की by Josh Malihabadi

There is no comment submitted by members..



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?



Poem Submitted: Tuesday, April 17, 2012

Poem Edited: Tuesday, April 17, 2012


[Report Error]