Upendra Singh 'suman'

Bronze Star - 2,988 Points (03-06-1972 / Azamgarh)

दिल दुखाया न करो - Poem by Upendra Singh 'suman'

तन्हाइयों में मेरी तुम आया न करो.
अर्ज तुमसे है दिल ये दुखाया न करो.

खंजरे अक्स तेरा सीने में उतर जाता है.
ये जुल्मो-सितम मुझ पे यूँ ढाया न करो.

मेरे आंसुओं का दरिया मुझको निगल रहा है.
डूबे हुए को यूँ तो डुबाया न करो.

ये रूप ये यौवन ये गेसुओं की घटायें.
मदिराये-हुस्न मुझको पिलाया न करो.

मैं दर्द का मंजर हूँ झेला है हर सितम.
ऐसे में 'सुमन'मुझको सताया न करो.

जिस्त मेरी ही 'सुमन'मुझसे करती है शिकायत.
कहती है मुझको यूँ तो रुलाया न करो.

उपेन्द्र सिंह 'सुमन'

Topic(s) of this poem: heart

Form: ABC


Comments about दिल दुखाया न करो by Upendra Singh 'suman'

  • Rajnish Manga (11/20/2015 11:40:00 AM)


    बहुत सुंदर, वाह... वाह! कविता में अभिव्यक्ति का यह अंदाज़ बहुत भाया. धन्यवाद, उपेन्द्र जी. एक सुझाव: निम्न पंक्तियों में मदिरा-ए-हुस्न के स्थान पर शराब-ए-हुस्न लिखना ज्यादा उचित होगा (मदिरा हिंदी का शब्द है) .
    ये रूप ये यौवन ये गेसुओं कि घटायें.
    मदिराये-हुस्न मुझको पिलाया न करो.
    (Report) Reply

    Upendra Singh Suman (12/3/2015 6:41:00 PM)

    शुक्रिया

    0 person liked.
    0 person did not like.
Read all 2 comments »



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags


Poem Submitted: Friday, November 20, 2015

Poem Edited: Thursday, December 3, 2015


[Report Error]