Ajay Srivastava

Gold Star - 11,191 Points (28/08/1964 / new delhi)

दिखा दो - Poem by Ajay Srivastava

भाव से सम्बन्ध है|
सम्बन्ध से परिवार है|
परिवार से एकता है|
एकता से समाज है|
समाज से देश है|
देश से हम है|
सीधी सी सरल सी बात|
फिर किस बात की लडाई|
तेरा, मेरा और हम सबका
भारत देश हम सबका है|
अपनी अवगुणो कौ जो दिखाते हो
उसको छूपा लो|
अपनी गुणो को जो छुपाते हो
उसको दिखा दो |
विशवास करो हर शिकायत दूर हो जाएगी|
संकोच मत करो कदम बडाऔ यही सही राह है|

Topic(s) of this poem: expression


Comments about दिखा दो by Ajay Srivastava

  • (12/3/2015 12:01:00 PM)


    i wish i could read this..it must be beautiful (Report) Reply

    0 person liked.
    0 person did not like.
Read all 1 comments »



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags


Poem Submitted: Thursday, December 3, 2015

Poem Edited: Friday, December 4, 2015


[Report Error]