Ajay Srivastava

Gold Star - 11,191 Points (28/08/1964 / new delhi)

डर तो डर है - Poem by Ajay Srivastava

गलत राह पर चलेगे|
वो तो आएगा ही|
प्रभाव भी अवशय दिखाएगा |
उसका यही स्वभाव है|

आकस्मिक भी होता है|
काल्पनिक भी होता है|
अंतरात्मा में भी है|
पूर्वाभास में भी है|

हॉ यही सच है|
हम क्यो दूर भागे
सामना तो करना होगा
हॉ उसको समझना होगा|

कभी ना कभी यह
हर किसी से मुलाकात
कर ही लेता है|
डर तो डर है

Topic(s) of this poem: fear


Comments about डर तो डर है by Ajay Srivastava

  • Abhilasha Bhatt (1/19/2016 4:22:00 AM)


    Dar ka saamna karna zaroori h.....nice poem....thank u for sharing :) (Report) Reply

    0 person liked.
    0 person did not like.
Read all 1 comments »



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags


Poem Submitted: Tuesday, January 19, 2016



[Report Error]