Akash Duhan


न रंगू कभी ख़ून से - Poem by Akash Duhan

जो कोई मुझे रंगरेज़ बनाए
यूँ अवसर दे अपने देश को रंगने का
लाल न होगा रंग कभी
लाल प्रतीक है
कुर्बानी का
बलिदान का
देश के लिए परित्याग का
पर आज नही कोई त्याग है करता
ओर न ही
कोई आदर है करता
स्वतंत्रा मे दिए गए बलिदान का
बल्कि जिस माँ के लाल कहलाते है हम सब
उसी का सीना लाल कर देते है
जात पात क नाम पर
धर्म के नाम पर
खून तो सबको लाल ही दिया है माँ ने
तो व्यर्थ मे बहाके देखना क्यू है
बहाना ही है तो धरती माँ के आँचल
की इज्ज़त क लिए बहाओ
उनकी रक्षा क लिए बहाओ
तभी लाल कहलाने को साक्ष्य करोगे
खुद को भी
ओर
खुद के खून को भी


Poet's Notes about The Poem

it feels very bad when i see sense of patriotism is getting diminished day by day....its not all over yet....but too make our country the golden bird we need to have some more passion

Comments about न रंगू कभी ख़ून से by Akash Duhan

There is no comment submitted by members..



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags

What do you think this poem is about?



Poem Submitted: Thursday, May 17, 2012



[Report Error]