Akhilesh Bakshi

Rookie - 0 Points [Akhilesh]

Do you like this poet?
0 person liked.
0 person did not like.


I am a traveler in the longing for a shore.

I have lived enough,
for my age defies!

I have seen enough,
what this world hides! more »

Click here to add this poet to your My Favorite Poets.


Comments about Akhilesh Bakshi

---
There is no comment submitted by members..
Best Poem of Akhilesh Bakshi

हवा के झोंके

ये सुखी टहनियां भी हवा के झोंकों का लुत्फ़ उठाती हैं,
बारिश की बूंदों में ये भी नहाती हैं!

जिस सूरज की रौशनी में हुई बड़ी,
आज उसी से घबराती हैं!

के हैं जिंदा जब तक,
वो भी ज़िन्दगी का हर लुत्फ़ उठाना चाहती हैं!

Read the full of हवा के झोंके

PoemHunter.com Updates

[Report Error]