Upendra Singh 'suman'

Bronze Star - 2,988 Points (03-06-1972 / Azamgarh)

तुमने मुझको क्या न दिया है - Poem by Upendra Singh 'suman'

तुमने मुझको क्या न दिया है.
सब कुछ मुझ पर वार दिया है.

मेरी दुनियाँ में आ करके,
मन के मोती बिखरा करके,
जीवन का श्रृंगार किया है.
तुमने मुझको क्या न दिया है...................

सागर सी गहरी आँखों में,
नेह उर्मि के विश्वासों ने,
प्रेम का पारावार दिया है.
तुमने मुझको क्या न दिया है...................

मादक क्षण दे मधुमय पल दे.
स्वर्णिम सुखद धवल सा कल दे.
जीवन को विस्तार दिया है.
तुमने मुझको क्या न दिया है...................

मृदु भावों की गागर भर के.
अपना जीवन रस दे करके,
सपनों को साकार किया है.
तुमने मुझको क्या न दिया है...................

मेरे सूनेपन में आकर,
मृदुल मंजु मधु प्यार लुटाकर,
तुमने मुझको तार दिया है.
तुमने मुझको क्या न दिया है...................

मेरे मादक मेरी आशा,
मृदुल विमल मंजुल मनभावन,
यौवन का उपहार दिया है.
तुमने मुझको क्या न दिया है...................

मन मधुबन में प्रीति जगाकर,
मुझको अपना मीत बनाकर.
अमृत का आगार दिया है.
तुमने मुझको क्या न दिया है...................

प्रेम समर्पण तेरा अनुपम,
जीवन अर्पण तन-मन अर्पण,
स्वंय को सहज विसार दिया है.
तुमने मुझको क्या न दिया है...................

हीरे-मोती से भर दी है,
तुमने मेरी खाली झोली.
मन-उपवन में पुष्प खिलाकर,
खुशिओं का संसार दिया है.
तुमने मुझको क्या न दिया है...................

उपेन्द्र सिंह ‘सुमन’

Topic(s) of this poem: love

Form: ABC


Comments about तुमने मुझको क्या न दिया है by Upendra Singh 'suman'

There is no comment submitted by members..



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags


Poem Submitted: Thursday, December 3, 2015

Poem Edited: Sunday, December 6, 2015


[Report Error]