Ajay Srivastava

Gold Star - 11,263 Points (28/08/1964 / new delhi)

फट - Poem by Ajay Srivastava

धर्म के नाम पर लडने को फट से त्यार हो जाते है|
धर्म के नाम पर एक जुटता को लेकर फट से बिखर जाते है|
रिशवत लेने-देने को फट से त्यार हो जाते है|
रिशवत का विरोध पर फट से कार्य रोक देते है- कानून की दुहाई देते है|
निजी हित के लिए फट से देश हित को पीछे कर देते है|
देश हित के लिए फट से निजी कर्तव्य की दुहाई देते है|
नियम अपने हित मे हो तो फट से कहते है नियम लागू हो|
नियम हित मे न हो तो फट से नियम से अनजान बन जाते है|
अपनी अच्छी आदतो को फट से दिखाऔ|
देश को फट से प्रगति को और ले चलो|

Topic(s) of this poem: running


Comments about फट by Ajay Srivastava

  • Shakil Ahmed (12/6/2015 9:24:00 AM)


    very real poem, you have painted your passions very well in the poem, thanks for sharing (Report) Reply

    0 person liked.
    0 person did not like.
Read all 1 comments »



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags


Poem Submitted: Sunday, December 6, 2015



[Report Error]