Rinku Tiwari

Rookie - 165 Points (18th jun,1990 / HOJAI)

मैं ओस हूँ । - Poem by Rinku Tiwari

मैं ओस हूँ
शीत ऋतु है मेरा जन्मदाता,
सूर्योदय है काल मेरा,
रात्रि समय मैं जन्म लें
जाता हूँ आँगन-आँगन उड़े
घड़ी दो घड़ी जीवन है मेरा
आनन्द में जीता हूँ ।
मैं ओस हूँ ।
जब समय हुआ सूर्योदय का
मैं धबराया और लगा सोचने
आया समय मेरे अंत का
कल आऊँगा फिर जग को देखने
जन्म अनेको बार लेता हूँ ।
मैं ओस हूँ ।
'हे ईश्वर' कब होगी मेरी
मुक्ति इस जगत् से
न लु जन्म बारम्बार,
नहीं है यहाँ कोई सुखी
है यहाँ पर दुखो का भण्डार,
जाती है चमक सत्य की
जैसे मैं चमक कर मरता हूँ ।
मैं ओस हूँ ।

Topic(s) of this poem: winter


Comments about मैं ओस हूँ । by Rinku Tiwari

There is no comment submitted by members..



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags


Poem Submitted: Saturday, November 21, 2015



[Report Error]