दोस्त अब थकने लगे हे Poem by Sanjay Singh Saharan

दोस्त अब थकने लगे हे

Rating: 5.0

दोस्त अब थकने लगे हे
साथ साथ जो खेले थे बचपन में
वो सब दोस्त अब थकने लगे है
किसी का पेट निकल आया है
तो किसी के बाल पकने लगे है
सब पर भारी ज़िम्मेदारीया है
सबको छोटी मोटी कोई बीमारी है
दिन भर जो भागते दौड़ते थे
वो अब चलते चलते भी रुकने लगे है
उफ़ क्या क़यामत हैं
सब दोस्त थकने लगे है
किसी को लोन की फ़िक्र है
कहीं हेल्थ टेस्ट का ज़िक्र है
फुर्सत की सब को कमी है
आँखों में अजीब सी नमीं है
कल जो प्यार के ख़त लिखते थे
आज बीमे के फार्म भरने में लगे है
उफ़ क्या क़यामत हैं
सब दोस्त थकने लगे है
देख कर पुरानी तस्वीरें
आज जी भर आता है
क्या अजीब से है ये वक़्त भी
किस तरह ये गुज़र जाता है
कल का जवान दोस्त मेरा
आज अधेड़ नज़र आता है
कल के ख़्वाब सजाते थे जो कभी
आज गुज़रे दिनों में खोने लगे है
उफ़ क्या क़यामत हैं
सब दोस्त थकने लगे है ।✌

This is a translation of the poem Friends Are Tired Now by Sanjay Singh Saharan
Friday, March 17, 2017
Topic(s) of this poem: nowruz
POET'S NOTES ABOUT THE POEM
दोस्तों के बारे में कहानी..
COMMENTS OF THE POEM
Rajnish Manga 17 March 2017

??????????? ?? ????????? ?? ????? ????? ?????? ?? ???? ???? ?? ??? ?? ??? ?? ???? ??, ???? ???? ????? ????? ???? ??. ???????, ?????.

1 0 Reply
Swaranjeet Singh 26 June 2021

?????? ???? ???? ?? ??? ??? ???? ?? ???? ?? ?? ???? ????? ???? ??? ???? ?? ???? ?? ?????? ?? ?? ???? ???? ??? ?? ?? ?????? ???? ??? ?? ???? ?? ?? ?? ???? ????? ?? ?? ???? ??? - ?????? ???? ???? Swaranjeet Singh 25th June 2021

0 0 Reply
Swaranjeet Singh 26 June 2021

?????? ?? ??? ???? ??? ??? ??? ???? ?????? ????? ??? ???? ????? ??? ???? ?? ????? ??? ???? ????? ???? ?? ?? ??? ?????? ?? ?? ?? ????? ?? ?? ???? ?? ???? ??? ??? ???? ???? ??

0 0 Reply
Swaranjeet Singh 26 June 2021

????? ?? ???? ?? ????? ?? ???? ?? ???-?-??????????? ?? ???? ???? ?????? ?? ????? ?? ?? ???? ??? - ?????? ???? ???? ???? ?? ??????? ?? ???? ?? ??????? ?? ??? ?? ?????? ?? ??? ?? ?? ???? ?? ????? ?? ?? ???? ??? - ?????? ???? ????

0 0 Reply
Sanjay Singh Saharan 11 September 2019

As your humble request to share this poem to college alumni.. Yes- you can.

1 0 Reply

Dear Mr Sanjay your poem is beautiful and make me nostalgic i want to record this poem for our college alumni meet with your kind permission. my mail id is raghav.dusane@gmail.com thanks

1 0 Reply
Sanjay Singh Saharan

Sanjay Singh Saharan

Dalman, Sardarshahar
Close
Error Success