S.D. TIWARI

Gold Star - 4,844 Points (December.1955 / India)

Kyon Na Gaye The Tham (Hindi) क्यों न गए थे थम - Poem by S.D. TIWARI

क्यों न गए थे थम

प्यार के वो चार पल जब मिले थे हम
क्यों न गये थे थम
चाँद तारों के आगे खाए जो कसम
संग में रहने की मिल जुल जनम जनम
हम दोनों ने सनम
क्यों न गये थे थम
चुपके से बहारें आने लगी थी
कलियाँ चमन की मुस्कराने लगी थी
पड़ गये कितने कम
क्यों न गये थे थम
पाने लगी थी जिंदगी नया रंग भी
गाने लगे थे झूम कर के विहंग भी
खुशियों के परचम
क्यों न गये थे थम

एस० डी० तिवारी

Topic(s) of this poem: hindi, love


Poet's Notes about The Poem

Wish! those moments of love had stopped.

Comments about Kyon Na Gaye The Tham (Hindi) क्यों न गए थे थम by S.D. TIWARI

There is no comment submitted by members..



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags


Poem Submitted: Saturday, January 30, 2016



[Report Error]