Pranav Tripathi

Comments about Pranav Tripathi

There is no comment submitted by members..
Best Poem of Pranav Tripathi

Love

हमारी है तुम्हारी है सभी की है यही दुनिया।
गरीबों की अमीरों की बसती हैं यही रनिया।
जरा सा गौर कर तो देख यही तेरी ही है गलियां।।
क्या धरती क्या अम्बर है ये तेरी ही हैं कलिया।।
इतनी घूर मत तू देख किसी की वो बहनिया है।
मचा क्यों अब शोर इतना अब क्या कोई फिरंगिया आया है।
साथ में नकली नोटों की बंडलि भर भर के लाया है।
हमारी है तुम्हारी है सभी की है यही दुनिया।

कल को तुम बिछड़ जाओ हमें तुम याद कर लेना।
गदहों में ही सही तुम मुझ नाचीज का दीदार कर लेना।
भूल गर जाओगे तुम मुझको समझ लूँगा बस है नहीं दुनिया।।
क्योंकि दिन नहीं गुजरा बिन दीदार के यूँ तेरा।।
मेरी मोह्हबत ...

Read the full of Love