Dr. Ravipal Bharshankar

Explore Poets GO!
Best Poem Of Dr. Ravipal Bharshankar

Dr. Ravipal Bharshankar Popularity

Dr. Ravipal Bharshankar Biography

I am a simple; direct and honest man.

Birth:
In a Buddhist family.
On- 09/08/1972;
At- Hinganghat; District-Wardha; Maharashtra; India

Parents:
Mother- Dwarka;
Father-Uddhao

Cast:
Mahar

Education:
Class 1 to 4
Chokha Prathsamic School;
Class 5 to 10
New Municipal High School;
Class 11 to12
Bharat junior College; ...

Dr. Ravipal Bharshankar Poems

1.
भारत; भारत में गैर रखना

'सच को सच और; झठ को झुठ करके जानता,
इंसान वो जो शब्द और; निश: ब्द दोनो जानता.
जिंदगी ये कौनसी; जो जीये जाए मरे,
इंसान वो जो जिंदगी; और मौत दोनो जानता.'
...

2.
आँखपन दे मुझको

मैं था अंधा दूर गगन में, बिन पेंदे का लोटा
टकरा जाता मिट जाता, जीवन खो जाता

मैंन मांगी आँखे, राहें मेरी राखें
...

3.
स्त्री भृण हत्या

स्त्री- भृण- हत्या
                         
तुम मुझे कहाँ प्यार देते हों
अच्छा हैं जो तुम मुझे, पेट में ही मार देते हों
...

4.
आना जाना ऐसा समा

आना जाना ऐसा समा, मिलना बिछड़ना ऐसा समा
बाग में जब गुल खिला, खिल उठा मन माली का
शाख से जब वो गिरा, मन मेरा रो पडा
...

कविता है हो जाना, कविता है खो जाना
कविता एक दिन नहीं, कविता है रोजाना
कविता तेरा मेरा, एक रूप एक दर्पण
कविता तेरे मेरे, दिल की एक धड़कन
...

Dr. Ravipal Bharshankar Comments