Vikash Ranjan Sinha

Rookie - 196 Points (01 Apr / Jamui)

आवाज़ दिल की... - Poem by Vikash Ranjan Sinha

दिल ने दिल से दी आवाज़ तुझे,
हुई एक अजीब सी एहसास मुझे |
जानें ये कैसी खुमारी छाई है,
हर ओर तू ही तू नज़र आई है |
दिल ने दिल से दी आवाज़ तुझे,
हुई एक अजीब सी एहसास मुझे |
देख कर मुझे जब से तूने मुस्कुराई है,
चेहरे पे मेरे खुशियाँ ही खुशियाँ छाई |
तेरे मोहब्बत के रंग अब तो मेरे पे रंग लाई है,
जब से मेरे जीवन में तू समाई है |
दिल ने दिल से दी आवाज़ तुझे,
हुई एक अजीब सी एहसास मुझे...! ! !

Topic(s) of this poem: life


Comments about आवाज़ दिल की... by Vikash Ranjan Sinha

  • Bharati Nayak (11/13/2015 8:20:00 AM)


    Lovely and wonderful write on the beautiful feelings of love. (Report) Reply

    Vikash Ranjan Sinha Vikash Ranjan Sinha (4/11/2016 9:50:00 PM)

    Thanks!

    1 person liked.
    0 person did not like.
  • Gajanan Mishra (11/12/2015 10:47:00 PM)


    ajib si hehsas, fine one, I like it.. great love.. (Report) Reply

    Vikash Ranjan Sinha Vikash Ranjan Sinha (4/11/2016 9:50:00 PM)

    Thanks

Read all 4 comments »



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags


Poem Submitted: Thursday, November 12, 2015



[Report Error]