M. Asim Nehal

Gold Star - 165,800 Points (26th April / Nagpur)

Ek Zakhm Hara Hai - Poem by M. Asim Nehal

Is dil mein ek kamra hai jo dard se bhara hai
Kholne se darta hoon ek zakhm hara hai….

Jaanta tha ye kamra khali na rahega
Kuch bada is ko banake ek zulm kiya hai….

Toote dilon ki zakhmi fariyaad hai inmein
Apno ke diye dard ka ambaar hai inmein

Bikhare bikhare se pade hai kai khwab choor choor
Ummeed ki tuti kashti ka patwar pada hai

Uljhi hui rishton ki kuch gaanth padi hai
Sira milta nahi is baat ka malal bada hai

Tu kaun hai kya hai ab toh samajh le aye “Aashi”
Yahan jo bhi mila hai kisi na kisi naam se mila hai.

Topic(s) of this poem: life, relationship

Form: Ghazal


Poet's Notes about The Poem

एक ज़ख्म हरा है

इस दिल में एक कमरा है जो दर्द से भरा है
खोलने से डरता हूँ एक ज़ख्म हरा है ….

जानता था ये कमरा खली न रहेगा
कुछ बड़ा इस को बनाके एक ज़ुल्म किया है ….

टूटे दिलों की ज़ख़्मी फ़रियाद है इनमें
अपनों के दिए दर्द का अम्बार है इनमें

बिखरे बिखरे से पड़े है कई ख्वाब चूर चूर
उम्मीद की टूटी कश्ती का पतवार पड़ा है

उलझी हुई रिश्तों की कुछ गाँठ पड़ी है
सिरा मिलता नहीं इस बात का मलाल बड़ा है

तू कौन है क्या है अब तो समझ ले ए “आशी ”
यहाँ जो भी मिला है किसी न किसी नाम से मिला है.

Comments about Ek Zakhm Hara Hai by M. Asim Nehal

  • Rajnish Manga (7/7/2016 12:53:00 PM)


    बहुत खूब. चलते चलते राह में मिले ज़ख्मों की खुबसूरत तर्जुमानी करती है आपकी यह नज़्म. बहुत कुछ कहती है और बहुत कुछ हमें इशारों इशारों में बताती है. इस लाजवाब रचना के लिये मेरा हार्दिक धन्यवाद, मो. आसिम जी.
    इस दिल में एक कमरा है जो दर्द से भरा है
    खोलने से डरता हूँ एक ज़ख्म हरा है ….
    (Report) Reply

    1 person liked.
    0 person did not like.
  • (10/25/2015 1:23:00 PM)


    Zakhm hara hai padkar maza aa gaya hai..... (Report) Reply

  • Deepti Mishra (10/25/2015 6:05:00 AM)


    Well written..keep sharing your feeling in form of poetry.. (Report) Reply

  • Sanjukta Nag (10/25/2015 12:34:00 AM)


    Kya baat! Aap ka ghazal hamesha dil ko chhu jaata hai.10+++ (Report) Reply

Read all 4 comments »



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags


Poem Submitted: Saturday, October 24, 2015



[Report Error]