Ritesh Mishra

Rookie - 25 Points [Ritesh Mishra] (05/02/1983 / Sitamarhi (Bihar))

Do you like this poet?
5 person liked.
1 person did not like.


Mr.Ritesh Mishra is a well known name in the field of IIT preparation arena across India.He is currently running RONAK CLASSES for preparation of JEE Main & JEE Advanced Entrance Examination, Durgapur.Previously he was with FIITJEE (Delhi) , CAREER POINT(Kota & Bokaro) , VISION KOTA(Dehradun) , VISION CLASSES (Patna) , ARYABHATTA SUPER- 30(Patna) and SMARTHINKING(Noida) .

EARLY LIFE ... more »

Click here to add this poet to your My Favorite Poets.


Quotations

more quotations »
  • ''काश दिल दिल का शायरी करता''
    काश दिल दिल का शायरी करता मगर धरती नाचती और आकाश नचाता महज एक रात की बात है, कबूतर एक प्रेमी से कहा क्या हुआ तेरा प्रेमखत जिसे तेरी प्रेमिका ने मे...
  • दिल तो दिल की धरकन सुनता, कोई प्यार नहीं पर इकरार करता

    ये समा हमारे दिल की दर पर, रोज साम जला करता

    दिल खुशियों की बाग़ सदा, पतझर मे प्यार कोपल लाता

    उन सोन...
    दिल की आवाज
  • क्या कहूँ ज़माने ने दिया कम नहीं |
    पर खुदा की खुदाई ने निभाने न दिया |

    मुहब्बत के गम ख़ुशी के पैमाने में समा न सका, की प्यार के बादल बरस गए |

    जिंदगी है पर जिंदगी में...
    क्या कहूँ ज़माने ने दिया कम नहीं | पर खुदा की खुदाई ने निभाने न दिया | मुहब्बत के गम ख़ुशी के पैमाने में समा न सका, की प्यार के बादल बरस गए | जिं...
Read more quotations »

Comments about Ritesh Mishra

more comments »
---
  • Ritesh Mishra Ritesh Mishra (3/12/2015 11:08:00 PM)

    love is an eternal process which never ends.

Read all 1 comments »
Best Poem of Ritesh Mishra

पतझर प्यार् के मौसम का

गुल खिला बहुत मोहब्बत के मगर, प्यार् की गहरायी न माप सका

जिन्दगी गा गा कर थक गया प्यार् के नगमे बहुत, पर प्यार् की कलायी न छू सका

न जाने कितने जिंदगी तेरी प्यार् मे गुजर गए ओ बेखबर, अब तो अश्क भर ले प्यार् के अपने नयन मे




मैने था कदम बढाया गहरी प्यार् की खायी मे, कोई तो होगा वहा जो थामेगा मेरा कदम

मतलबी जहाँ ने मुझे अपने हाल पे डुबोने दिया, क्या कहूँ कम्बक्थ! प्यार् ने उस बक्त भी उसे याद किया




मुझे आज बहारों मे पतझर की याद आयी, अपनी नग्नता की कहानी जो कभी पतझर ने सुनायी

बहारों ने उतारा लिवास तो पतझर बना, जिन्दगी ने उतारा...

Read the full of पतझर प्यार् के मौसम का

PoemHunter.com Updates

[Report Error]