AVINASH PANDEY KHUSH

Rookie - 94 Points [EFFECTIVE POEM] (20/10/1995 / 20/10/1995 JAUNPUR U. P. BHARAT)

AVINASH PANDEY KHUSH Poems

1. Bharat Ki Gareebi 12/25/2014
2. Eitihasik Bhoolein 12/25/2014
3. Mere Meet Suno Mere Geet Suno 12/25/2014
4. Bhrashtachar Par Prahar 12/25/2014
5. Andhera Kitana Bhee Ho Phir Bhee Muskarana Hai 12/25/2014
6. Jindagee 12/25/2014
7. Janaja 12/25/2014
8. Achchhe Din Aa Gaye 12/25/2014
9. Bharat Ke Veer 12/27/2014
10. Rishto Ki Dor 1/6/2015
Best Poem of AVINASH PANDEY KHUSH

Eitihasik Bhoolein

इतिहासिक भूले
इतिहास में जो हमने जो भूल किया है, कुर्सी के लिए उसको कबूल किया है
सन ४७ की भूल नहीं मुझको कबूल, सन ४७ की भूल नहीं मुझको कबूल
इससे बढ़ियाँ है फांसी पे झूल, इतिहास के ये भूल, ये इतिहास के है भूल
इतिहास में जो हमने जो भूल किया है, कुर्सी के लिए उसको कबूल किया है
देश का बटवारा कहा किसके द्वारा-२ , माउन्टबेटेन का आधार लगा सबको प्यारा
जिन्ना नेहरू और गाँधी की कैसी ये भूल, अगस्त १४ की रात किया योजना कबूल
इन सभी को कभी न तू भूल, इतिहास के ये भूल, ये इतिहास के है भूल
आगे चलते-चलते बताये , आँख को मलते
कैसे हूए है हलाल मेरे देश के सब लाल मेरे देश के ...

Read the full of Eitihasik Bhoolein
[Report Error]