Geet Chaturvedi

(27 November 1977 - / Mumbai / India)

Geet Chaturvedi Poems

1. The Tongue of Kumārajīva 2/22/2018
2. My Language, My Future 2/22/2018
3. ख़ुशियों के गुप्तचर 4/10/2018
4. सारे सिकंदर घर लौटने से पहले ही मर जाते हैं 4/10/2018
5. नीम का पौधा 4/10/2018
6. आलाप में गिरह (कविता) 4/10/2018
7. बुरी लड़कियाँ, अच्छी लड़कियाँ 4/10/2018
8. उन लोगों के बारे में जिन्हें मैं नहीं जानता 4/10/2018
9. पोस्टमैन 4/10/2018
10. इलाही! है आस या तलास 4/10/2018
11. कोई बेनाम-सा 4/10/2018
12. सभ्यता के खड़ंजे पर 4/10/2018
13. बोलते जाओ 4/10/2018
14. मदर इंडिया 4/10/2018
15. काग़ज़ 4/10/2018
16. सुसाइड बॉम्‍बर 4/10/2018
17. बड़े पापा की अंत्‍येष्टि 4/10/2018
18. यासुजिरो ओज़ू की फिल्मों के लिए 4/10/2018
19. मेरी भाषा, मेरा भविष्‍य 4/10/2018
20. मैंने कहा, तू कौन है? उसने कहा, आवारगी 4/10/2018
21. सबसे प्रसिद्ध प्रश्‍न 'मैं क्‍या हूँ' के कुछ निजी उत्‍तर 4/10/2018
22. असंबद्ध 4/10/2018
23. जिसके पीछे पड़े कुत्ते 4/10/2018
24. डेटलाइन पानीपत 4/10/2018
25. इतना तो नही 4/10/2018
26. नश्तर 4/10/2018
27. सुब्हान अल्लाह 4/10/2018
28. फीलगुड 4/10/2018
29. काया 4/10/2018
30. बच्ची की कहानी 4/10/2018
31. प्रश्न अमूर्त 4/10/2018
32. प्रेम कविता 4/10/2018
33. मुंबई नगरिया में मेरा ख़ानदान 4/10/2018
34. चंपा के फूल 4/11/2018
35. मालिक को ख़ुश करने के लिए किसी भी सीमा तक जाने वाला मानवीय दिमाग़ और... 4/11/2018
36. तस्वीर में आमिर ख़ान के साथ मेरा एक रिश्तेदार 4/11/2018
37. एक इंच 4/11/2018
38. बोलने से पहले 4/11/2018
39. ठगी 4/11/2018
40. गैंग 4/11/2018

Comments about Geet Chaturvedi

There is no comment submitted by members..
Best Poem of Geet Chaturvedi

The Memory of Now

(For Eduardo Chirinos)

Downstairs I left a candle burning
In its light I'll read a few lines when I return

By the time I returned the candle had burned out
Those few lines had faded like innocence

You walk with me
The way moon walks along with a child sitting in a train window

I stood in the balcony one day
Waved a handkerchief toward the sky

Those who have gone without saying their goodbyes
Will recognize it even from far

In my handkerchief they have left behind their tears
The way early humans left behind their etchings on cave ...

Read the full of The Memory of Now

Paribhaasaa

[Report Error]