Geet Chaturvedi

(27 November 1977 - / Mumbai / India)

Geet Chaturvedi Poems

1. The Tongue of Kumārajīva 2/22/2018
2. My Language, My Future 2/22/2018
3. ख़ुशियों के गुप्तचर 4/10/2018
4. सारे सिकंदर घर लौटने से पहले ही मर जाते हैं 4/10/2018
5. नीम का पौधा 4/10/2018
6. आलाप में गिरह (कविता) 4/10/2018
7. बुरी लड़कियाँ, अच्छी लड़कियाँ 4/10/2018
8. उन लोगों के बारे में जिन्हें मैं नहीं जानता 4/10/2018
9. पोस्टमैन 4/10/2018
10. इलाही! है आस या तलास 4/10/2018
11. कोई बेनाम-सा 4/10/2018
12. सभ्यता के खड़ंजे पर 4/10/2018
13. बोलते जाओ 4/10/2018
14. मदर इंडिया 4/10/2018
15. काग़ज़ 4/10/2018
16. सुसाइड बॉम्‍बर 4/10/2018
17. बड़े पापा की अंत्‍येष्टि 4/10/2018
18. यासुजिरो ओज़ू की फिल्मों के लिए 4/10/2018
19. मेरी भाषा, मेरा भविष्‍य 4/10/2018
20. मैंने कहा, तू कौन है? उसने कहा, आवारगी 4/10/2018
21. सबसे प्रसिद्ध प्रश्‍न 'मैं क्‍या हूँ' के कुछ निजी उत्‍तर 4/10/2018
22. असंबद्ध 4/10/2018
23. जिसके पीछे पड़े कुत्ते 4/10/2018
24. डेटलाइन पानीपत 4/10/2018
25. इतना तो नही 4/10/2018
26. नश्तर 4/10/2018
27. सुब्हान अल्लाह 4/10/2018
28. फीलगुड 4/10/2018
29. काया 4/10/2018
30. बच्ची की कहानी 4/10/2018
31. प्रश्न अमूर्त 4/10/2018
32. प्रेम कविता 4/10/2018
33. मुंबई नगरिया में मेरा ख़ानदान 4/10/2018
34. चंपा के फूल 4/11/2018
35. मालिक को ख़ुश करने के लिए किसी भी सीमा तक जाने वाला मानवीय दिमाग़ और... 4/11/2018
36. तस्वीर में आमिर ख़ान के साथ मेरा एक रिश्तेदार 4/11/2018
37. एक इंच 4/11/2018
38. बोलने से पहले 4/11/2018
39. ठगी 4/11/2018
40. गैंग 4/11/2018

Comments about Geet Chaturvedi

  • Rajnish Manga Rajnish Manga (10/3/2019 11:08:00 PM)

    आपका परिचय पढ़ते हुये मुझे याद आया कि मैं हिंदी की कई पत्रिकाओं में आपकी कवितायें पहले भी पढ़ चुका हूँ. धन्यवाद.

    1 person liked.
    0 person did not like.
  • Rajnish Manga Rajnish Manga (10/3/2019 10:47:00 PM)

    Today, I have read a poem written by Geet Chaturvedi and have already become his fan. I hope to read all his poems in the days to come. I am enamored by his simple style and feel with which he develops the theme. Thanks and Good Wishes to this gifted poet.

    1 person liked.
    0 person did not like.
Best Poem of Geet Chaturvedi

Nivid