Menu
Sunday, February 10, 2019

मै तुम्हारी साँसों में इस तरह से बस्ता हूँ जैसे

Rating: 3.7
मै तुम्हारी साँसों में इस तरह से बस्ता हूँ जैसे
सितारों के बीच में चाँद
समुंदर में उठती लहरें
पत्तों से गुज़रती हवाएं
पहाड़ों से गुज़रते पंछी

तुम मेरी बाँहों में इस तरह से समाती हो जैसे
तालाब में मछलियां
काँटों पे फूल
दातों के बीच ज़बान

और हम साथ साथ ऐसेहैं जैसे
ज़मीनऔर आसमान
रेत और रेगिस्तान

और हमारी ज़िन्दगी ऐसी है जैसे
दो जिस्म और एक जान

सिर्फ तुम और मै
This is a translation of the poem I Reside Between Your Breaths - Love Love Love by M. Asim Nehal
Topic(s) of this poem: love
POET'S NOTES ABOUT THE POEM
My own style of 5-4-3-2-1 Lines.....Reducing line style.
READ THIS POEM IN OTHER LANGUAGES
COMMENTS
Akhtar Jawad 13 November 2020
A beautiful Hindi version of a great poem.
0 0 Reply
Kumarmani Mahakul 10 February 2019
Moon dazzles in between stars and emotion blooms in between relationships and love dazzles like star in every heart and heart of self. An excellent love poem is nicely penned and translated...10
0 0 Reply

Annabel Lee

Delivering Poems Around The World

Poems are the property of their respective owners. All information has been reproduced here for educational and informational purposes to benefit site visitors, and is provided at no charge...

1/23/2021 6:23:12 AM # 1.0.0.425