Explore Poems GO!

November Ka Sard Maheena Tha

Rating: 4.7

नवम्बर का सर्द महीना था,
और तेज़ हवा का मौसम था,
कुछ कुछ ओस की बूँदें थी,
और मैं याद मे तेरी डूबी थी,

कुछ कलियां महकी-महकी थी
चाहत में तेरी बहकी थी
कुछ ठंडी चांदनी रातें थी,
और ज़ेहन में बस तेरी बांते थी,

कुछ बादल काले गहरे थे,
Read More

READ THIS POEM IN OTHER LANGUAGES
COMMENTS OF THE POEM
Mehta Hasmukh Amathalal 19 January 2014

nice nice... 10 bas vo bhavna thi man ki bhavna thi mahina to sard thaa par hamdard thaa////////

0 0 Reply
Brajendra Nath Mishra 17 January 2014

Kuch shabdon ke chayan aur herpher se is kavita ko aur bhi prabhaotpadak banaya ja sakta hai... Keep writing..Good effort

1 0 Reply