M. Asim Nehal

Gold Star - 164,655 Points (26th April / Nagpur)

Kash Ma Kash - Poem by M. Asim Nehal

Kholte hain kabhi
Kabhi bandh karte hain
Darwaze ko hum her waqt tang karte hain
Woh nahi aate lekin ghussa hum daro-deewar pe karte hain.

Wada nahi kiya aane ka
Kuch kaha bhi na tha usne
Ankhe keh gayi jo fasana
Uska kyun hum kha-ma-kha aitbar karte hain.

Dil se ishq ka aalam mat poochiye
Hath aur kalam dono ruk gaye hain abhi
Waqt hai ki chalta hi nahi
Shafaq aur mahtaab kyun daude chale jaate hain.


Bujhe bujhe se chirag
Kyun jalne ko hain betaab
Kyun roshni laga rahi hai chakkar
Tel aur baati ko kab se pee rakha hai mitti ne

Aankhe gholti hain
Kyun aansu unke intezaar mein ab tak
Jazbaat ke bhanwar mein sab arman
Kyun dam tod dete hain.

Topic(s) of this poem: life

Form: Ghazal


Poet's Notes about The Poem

काश म काश

खोलते हैं कभी
कभी बंद करते हैं
दरवाज़े को हम हर वक़्त तंग करते हैं
वो नहीं आते लेकिन ग़ुस्सा हम दरो -दीवार पे करते हैं.

वादा नहीं किया आने का
कुछ कहा भी न था उसने
आँखे कह गयी जो फ़साना
उसका क्यों हम खां-म -खा इतबार करते हैं.

दिल से इश्क़ का आलम मत पूछिये
हाथ और कलम दोनों रुक गए हैं अभी
वक़्त है की चलता ही नहीं
शफ़क़ और महताब क्यों दौड़े चले जाते हैं.

बुझे बुझे से चिराज
क्यों जलने को हैं बेताब
क्यों रौशनी लगा रही है चक्कर
तेल और बाती को कब से पी रखा है मिटटी ने

ऑंखें घोलती हैं
क्यों आंसू उनके इंतज़ार में अब तक
जज़्बात के भवर में सब अरमान
क्यों दम तोड़देते हैं.

Comments about Kash Ma Kash by M. Asim Nehal

  • Anita Sharma (11/19/2015 9:56:00 AM)


    दिल से इश्क़ का आलम मत पूछिये
    हाथ और कलम दोनों रुक गए हैं अभी
    वक़्त है की चलता ही नहीं
    शफ़क़ और महताब क्यों दौड़े चले जाते हैं.
    such heartfelt write each and every word making sense love it
    (Report) Reply

    1 person liked.
    0 person did not like.
  • Akhtar Jawad (11/16/2015 8:02:00 PM)


    Ek peyari aur khoobsoorat nazm..........................10 (Report) Reply

  • (11/10/2015 12:01:00 AM)


    Badiya kavita hai Asim Saheb ki....100 (Report) Reply

Read all 3 comments »



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags


Poem Submitted: Monday, November 9, 2015

Poem Edited: Monday, November 9, 2015


[Report Error]