Pushpa P Parjiea Poems

Hit Title Date Added
1.
दिले नादां (Dile Nadan)

तकते रहे राहें हम उम्र के हर मोड़ पर
उम्मीद का छोड़ा न दामन क़यामत की दस्तक होने तक
मुस्कान सजाये होठों पर हम जीते गए अंतिम आह तक
सोचा कभी मिल जाय शायद कहीं खुशियों का आशियाँ हमें भी
...

2.
नएसाल की ताल

रहगए हैं अबकुछपलइस साल केअंतके
होने वालीहै नईसुबह सपनो के संसार में
दूर गगन तारों कीलड़ी, टिक टिककरतीये घडी
सुना रहीधड़कनमानोअंतिमसांसोकेइससालकी
...

3.
ओ पथिक

Hausale buland rakh aie pathik tu
हौसले बुलंदरखऐपथिकतू
Zamane kiin chingariyonme
ज़मानेकी इनचिंगारियों में
...

4.
Sukhi Patti Hari Patti

Sundar hai syaahi(ink)  teri ya sundar mere ye alfaz hain

Teri srishti ki sundrata mere eshware badi hi bemishal hai 
...

5.
प्रकृति के सानिध्य से

वो गुनगुनाती सी हवाएं
दिल को बहलाते जाएँ

करे हैं मन की अब
...

6.
Tufan Ye Jivan Ke

aate hain tufan par thaharate nahi


akar chale jate hain par us barbadi se tu darna nahi
...

7.
Jeet Sachchai Ki

Kuchh tufano k bich..
Milti bhi hai raahat kahin

Kuchh anjano ke bich milti hai
...

8.
Ye Savan

Badal barse savan me..

Dharti odhe hari chadariya
...

9.
Kuchh Bahane

Kuchh bahana de de aie zindagi

Ji janeko mailalchaun.
...

10.
Virah

oo asma ke sitaron kar lo kuchh rukh is or bhi


meri kuchh suno or sunao tum kuchh aapni bhi
...

Close
Error Success