Sushil Kumar

Rookie (10: 05: 1951 / Bulandshahr)

Do you like this poet?
2 person liked.
0 person did not like.


I am originally a writer but by profession a homeopath.
At present, I live in Kichha, a well-known city of Uttarakhand state. more »

Click here to add this poet to your My Favorite Poets.


Comments about Sushil Kumar

---
There is no comment submitted by members..
Best Poem of Sushil Kumar

गुरु बंदना

गुरुवर तुम्ही बता दो किसकी शरण में जायें।
चरणों में जिसके गिरकर अपनी व्यथा सुनाएं।

अज्ञान के तिमिर ने चारों तरफ से घेरा।
क्या रात है प्रलय की होगा नहीं सबेरा।
होगा नहीं सबेरा...........
अनजान सी डगर पे कैसे कदम बढाएं।
गुरुवर तुम्ही बतादो...............

छल, दंभ, द्वेष, ईर्ष्या, साथी हैं सब हमारे।
वो कदम-कदम पे जीते हम हर कदम हारे।
हम हर कदम पे हारे.........
दिखला दो राह ऐसी पीछे ये छूट जाएँ।
गुरुवर तुम्ही बता दो........

अन्याय और हिंसा, बैसाखियाँ हमारी।
जिनके सहारे चलकर हमने उमर गुजारी।
हमने उमर गुजारी.......
पैरों को दो वो शक्ती ...

Read the full of गुरु बंदना

PoemHunter.com Updates

[Report Error]