Rajnish Manga

Gold Star - 150,433 Points (September 10,1951 / Meerut (UP) / Presently at Faridabad (Haryana) , India.)

विश्वास करो उस शक्ति पर (Hindi) - Poem by Rajnish Manga

तरह तरह के रंग बिरंगे फूल पात का आच्छादन है
भाँत भाँत के पशु पक्षी के कलरव से गुंजित वन है
नदी, प्रपात, झीलों, तालाबों से सराबोर यह जीवन है

विश्वास करो उस शक्ति पर जो इस सृष्टि में रहती है
निराकार हो कर भी हर पल, दुनिया को थामे रहती है

जीवन के नाना रूपों में उसी शक्ति का नाम लिखा है
धरती से नभ तक देखें तो सिर्फ उसी का रूप दिखा है
धड़कती है हर दिल में जो तेरी ही तो ज्योति शिखा है

विश्वास करो उस शक्ति पर जो इस सृष्टि में रहती है
निराकार हो कर भी हर पल, दुनिया को थामे रहती है

मैं जिस पथ पर चला सदा ही तूने मुझको राह दिखायी.
तू जब मेरे साथ चला तो मैंने अपनी मंज़िल पायी
तेरे होते पथ से विचलित करने वाले ने मुंह की खायी

विश्वास करो उस शक्ति पर जो इस सृष्टि में रहती है
निराकार हो कर भी हर पल, दुनिया को थामे रहती है

Topic(s) of this poem: faith, god, light, power, universe

Form: Lyric


Comments about विश्वास करो उस शक्ति पर (Hindi) by Rajnish Manga

  • Ajay Kumar Adarsh (8/23/2016 5:12:00 AM)


    bahut hi sundar rachna................. (Report) Reply

    0 person liked.
    0 person did not like.
  • Akhtar Jawad (12/6/2015 4:01:00 AM)


    In this poem you appear like PK, the alien. It's a wonderful poem. We are sensitive to seven colors and we know Lights of seven colors converge in a white light. Again if it is diverged it's splits in the same seven colors. I see singularity in plurality and plurality in singularity. (Report) Reply

  • Rajnish Manga (11/6/2015 11:24:00 AM)


    Thank you very much for taking time to review this poem and appreciating my effort, Kumarmani ji. (Report) Reply

  • Kumarmani Mahakul (11/2/2015 8:55:00 PM)


    Flowers of many colors fill mind with wonderful light of blooming sun. This is very nice and special sharing done definitely....10 (Report) Reply

Read all 4 comments »



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags


Poem Submitted: Monday, November 2, 2015

Poem Edited: Monday, November 2, 2015


[Report Error]