M. Asim Nehal

Gold Star - 163,730 Points (26th April / Nagpur)

Kuch Yun Laga - Poem by M. Asim Nehal

Kuch yun laga mujhko raah chalte chalte
Kyun ye jahaan badal raha hai waqt badalte-badalte

Pehle hua karti thi khuski har sama sama mein
Pyar pala karta tha dil ke is jahan jahan mein

Kyun ye mausam badla is badalte jahan jahan mein
Kyun phool kam khile hain is dil ke anjuman mein

Ye kya hua, ye kyun hua, kis kis se pooche yahan pe
Pal pal chal raha kyun aaj marte marte

Kahan gayi wo shame jo chand ko chanti thi
Chandni ke ras ko jo raat bhar chalkati thi

Wo phool ka mehakna, wo panchiyon ka chehakna
Wo jheel me kawal ka khilna aur Khulna

Ab kya se kya ho gaya hai, Mausam badalte badalte
Ek pyara sa lamha gaya kyun hath se phisal phisal ke

Topic(s) of this poem: love and life, random thoughts

Form: Ghazal


Poet's Notes about The Poem

कुछ यूँ लगा है मुझको राह चलते चलते
क्यों ये जहां बदल रहा है वक़्त बदलते -बदलते

पहले हुआ करती थी खुश्की हर समां समां में
प्यार पला करता था दिल के इस जहाँ जहाँ में

क्यों ये मौसम बदला इस बदलते जहाँ जहाँ में
क्यों फूल कम खिले हैं इस दिल के अंजुमन में

ये क्या हुआ, ये क्यों हुआ, किस किस से पूछे यहाँ पे
पल पल चल रहा क्यों आज मरते मरते

कहाँ गयीं वो शामे जो चाँद को छनती थी
चांदनी के रस को जो रात भर छलकती थी

वो फूल का महकना, वो पंछियों का चहकना
वो झील में कवल का खिलना और खुलना

अब क्या से क्या हो गया है, मौसम बदलते बदलते
एक प्यारा सा लम्हा गया क्यों हाथ से फिसल फिसल के

Comments about Kuch Yun Laga by M. Asim Nehal

  • Akhtar Jawad (11/20/2015 7:56:00 PM)


    A touching poem, liked it.................... (Report) Reply

    1 person liked.
    0 person did not like.
  • (11/4/2015 3:29:00 AM)


    Badiya lagta hai, kya ghazal hai, Asimji, Thanks. (Report) Reply

  • Rajnish Manga (11/4/2015 2:58:00 AM)


    Dear Asim ji, I am a keen follower of your poetry and enjoy reading it. But, this is a total disaster, total disappointment. Is it a Ghazal? (Report) Reply

  • Sanjukta Nag (11/4/2015 12:09:00 AM)


    The monologue of a saddened heart..... Extraordinary and heart touching ghazal as usual. Brilliant diction. Beyond rating. (Report) Reply

  • Kumarmani Mahakul (11/3/2015 11:15:00 AM)


    वो फूल का महकना, वो पंछियों का चहकना
    वो झील में कवल का खिलना और खुलना
    अब क्या से क्या हो गया है, मौसम बदलते बदलते
    एक प्यारा सा लम्हा गया क्यों हाथ से फिसल फिसल के........chamatkar description hai.......10
    (Report) Reply

  • Kumarmani Mahakul (11/3/2015 11:13:00 AM)


    वो फूल का महकना, वो पंछियों का चहकना
    वो झील में कवल का खिलना और खुलना
    अब क्या से क्या हो गया है, मौसम बदलते बदलते
    एक प्यारा सा लम्हा गया क्यों हाथ से फिसल फिसल के........chamatkar description hai.......10
    (Report) Reply

  • Kumarmani Mahakul (11/3/2015 11:13:00 AM)


    वो फूल का महकना, वो पंछियों का चहकना
    वो झील में कवल का खिलना और खुलना
    अब क्या से क्या हो गया है, मौसम बदलते बदलते
    एक प्यारा सा लम्हा गया क्यों हाथ से फिसल फिसल के........chamatkar description hai.......10
    (Report) Reply

  • Ari Alsio (11/3/2015 8:19:00 AM)


    मैं कुछ स्पष्ट नहीं मिला, लेकिन मुझे लगता है कि यह अच्छा था लगता है क्या? 10 (Report) Reply

Read all 8 comments »



Read this poem in other languages

This poem has not been translated into any other language yet.

I would like to translate this poem »

word flags


Poem Submitted: Tuesday, November 3, 2015

Poem Edited: Tuesday, November 3, 2015


[Report Error]