KAUSHAL ASTHANA

Rookie - 40 Points (02/07/1951 / jaunpur)

Do you like this poet?
3 person liked.
0 person did not like.


Click here to add this poet to your My Favorite Poets.


Comments about KAUSHAL ASTHANA

---
There is no comment submitted by members..
Best Poem of KAUSHAL ASTHANA

तुम्हारी चाह में भटका पर न पाया कुछ भी

तुम्हारी चाह में भटका पर न पाया कुछ भी,
रोते बच्चे को हसाया तो कुछ सुकून मिला|
मंदिरों मस्जिदों में प्राथना की सिजदा किया पर न पाया कुछ,
पास कि झोपड़ी में दीप जलाया तो कुछ सुकून मिला|
देवी देवो को उम्र भर लगाया भोग पर न पाया कुछ भी,
भूखे को प्रेम से खिलाया तो सुकून मिला |
तुम्हारे दर पर सर पटक पटक रोता रहा कुछ मिला क्या,
बूढी मा के चरणों में सर झुकाया तो कुछ सुकून मिला |
पण्डित, मुल्ला, पादरी के पीछे भागते उम्र बीती पर मिला क्या,
अन्धे बाबा को सड़क पार कराया तो कुछ सुकून मिला |
'कौशल' कुछ ना हुआ ज्ञान की पोथी पढ़ कर,
आज दिल से एक गीत गुनगुनाया तो कुछ ...

Read the full of तुम्हारी चाह में भटका पर न पाया कुछ भी

PoemHunter.com Updates

[Report Error]